क्रोएशिया का सपोर्ट कर ट्रोल हुए हरभजन

Jul 16 2018 04:15 PM
क्रोएशिया का सपोर्ट कर ट्रोल हुए हरभजन

रूस के लुज्निकी स्टेडियम में फीफा वर्ल्ड कप 2018 का फाइनल फ्रांस और क्रोएशिया के बीच खेला गया जहा फ्रांस ने क्रोएशिया को 4-2 से हराकर फुटबॉल जगत पर अपनी बादशाहत कायम की मात दी. मगर दिल जीता क्रोएशिया ने जो महज तीन दशक से कम समय पहले आजाद हुआ और आज देश की 50 लाख आबादी ने दुनिया को जता दिया की ये भी एक मुल्क है जो खेल के जरिये दुनिया के नक़्शे पर चमक रहा है. यूरोप का ये एक छोटा सा देश है. इस छोटे देश के बड़े काम के कायल होने वालों में इंडियन क्रिकेटर हरभजन सिंह का नाम भी शामिल है . उन्होंने क्रोएशिया के फाइनल  खेलने को देश के मौजूदा हालात से जोड़ा. 

हरभजन सिंह ने फाइनल मैच शुरू होने से पहले ट्वीट किया- 'लगभग 50 लाख की आबादी वाला देश क्रोएशिया फुटबॉल वर्ल्ड कप का फाइनल खेलेगा और हम 135 करोड़ लोग हिन्दू-मुसलमान खेल रहे है'. इसके साथ ही हरभजन सिंह ने हैशटैग सोच बदलो देश बदलो भी लिखा था. हरभजन का इशारा देश में व्याप्त सांप्रदायिक हिंसा की ओर था. फीफा वर्ल्ड कप के फाइनल में क्रोएशिया फ्रांस से हार गया. अब देश की राजनीति पर तंज कसते हुए हरभजन सिंह का ये ट्वीट वायरल हो रहा है. सोशल मीडिया पर उन्हें ट्रोल किया जा रहा है. 'भज्जी' के ट्वीट को अब तक 3000 से ज्यादा लोग री-ट्वीट कर चुके हैं. 10000 से अधिक लोग लाइक कर चुके हैं. कई यूजर्स ने इस ट्वीट को लेकर कमेंट भी किए. एक यूजर ने लिखा- 'हिन्दू-मुसलमान का खेल खेलना राजनीतिक लोगों का काम है, खिलाड़ियों का नहीं'.

एक अन्य यूजर ने ट्वीट किया- 'जरूरी नहीं कि भारत फुटबॉल में अग्रणी हो, हिंदुस्तान कई खेलों में आगे चल रहा है. अंकुश शर्मा के हैंडल से ट्वीट किया गया- 'यह असंभव है. क्योंकि हिन्दू-मुस्लिम हम सब मिलकर खेल रहे हैं, जिसमें राजनीतिक लोग के अलावा हम सब हैं, इसका फाइनल 2019 में होगा.' वहीं, रीत सिंह ने तो करारा जवाब देते हुए लिखा- 'चीन को देखो, न वह क्रिकेट खेल रहे हैं न फुटबॉल. हर जगह हर खेल उपयुक्त नहीं हो सकता.

जब बिग बी ने अफ्रीका को बताया फीफा ​विजेता...

फीफा पर सियासी घमासान बेदी की बधाई कांग्रेस का इस्तीफ़ा

FIFA 18: इंटरनेट पर आखिर क्यों हुई फ्रांस और क्रोएशिया के प्रेसिडेंट्स की तस्वीरें वायरल

 

?