ईद-मिलाद-उन-नबी मुबारक, इन संदेशों से दे बधाई

आप सभी जानते ही होंगे कि पैगंबर हजरत मोहम्मद साहब का जन्मदिन इस साल 19 अक्टूबर को मनाया जा रहा है. ऐसे में इस दिन को ही ईद मिलाद उन-नबी और ईद-ए-मिलाद के नाम से जाना जाता हैं. वहीं इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक़, पैगंबर हजरत मोहम्मद साहब का जन्म तीसरे माह में रबी-अल-अव्वर के 12वें दिन मक्का में हुआ था. अब आज के दिन मुस्लिम समुदाय के लोग नमाज अदा करेंगे और इसी के साथ शहरों के प्रमुख इलाकों में जुलूस निकाला जाएगा. वहीं इसके अलावा मोहम्मद साहब द्वारा दी गई शिक्षा का पालन करते है और इस दिन लोग एक दूसरे को संदेश, स्टेटस, कोट्स और वॉलपेपर भेजकर इस खास दिन की बधाई देते हैं. अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ संदेश जो आप अपने दोस्तों व रिश्तेदारों को भेज सकते हैं.


1. मुबारक मौका अल्लाह ने अता फरमाया,

एक बार फिर बंदगी की राह पर चलाया;

अदा करना अपना फर्ज़ खुदा के लिए,

खुशी से भरी हो मिलाद-उन-नबी आपके लिए


2. वो चांद का चमकना

वो मस्जिदों का सवरना

वो मुसलमानों की धूम.


3. आया है आज का दिन ये मुबारक सजी है,

रौनकों की महफिल हर तरफ ईद है,

उस खुदा का नायाब तोहफा आप सबको हमारी तरफ से


4. दिए जलते और जगमगाते रहे

हम आपको इसी तरह याद आते रहे

जब तक जिंदगी है ये दुआ हैं हमारी

आप चाँद की तरह जगमगाते रहें

 

5. सोचा किसी अपने से बात करूं,

अपने किसी ख़ास को याद करूं,

किया जो फैसला ईद मुबारक कहने का,

दिल ने कहा क्यूँ न आपसे शुरुवात करूं

6. अल्लाह आपको ईद-ए-मिलाद-उन-नबी के मुक्कदस मोके पर तमाम

खुशियां अता फरमाएं और आपकी इबादत कबूल करें


7. मदीने में ऐसी फ़िज़ा लग रही है,

की जन्नत की जैसी हवा लग रही है,

मदीने पहुँच कर जमीन को जो देखा,

यह जन्नत का जैसे पता लग रही है.


8. वो अर्श का चरागाह है,

मैं उस के क़दमों की धूल हूँ,

ऐ ज़िंदगी गवाह रहना,

मैं गुलाम-ए-रसूल हूँ.

 

9. नबी की याद से रोशन

मेरे दिल का नगीना है

वो मेरे दिल में रहते है

मेरा दिल एक मदीना है

 

10. वो चाँद का चमकना

वो मस्जिदों का सवरना

वो मुसलमानो की धूम

ईद-ए-मिलाद पर 400 लोग निकाल सकेंगे जुलुस, गुजरात सरकार ने जारी की गाइडलाइन्स

गुजरात सरकार ने सीमित अंकुश के साथ ईद-ए-मिलाद जुलुस को दी अनुमति

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -