अभिनेता बनना चाहते थे राजकुमार हिरानी, निर्देशक बनकर दी धमाकेदार फ़िल्में

राजकुमार हिरानी का आज जन्मदिन है। राजकुमार को उन बॉलीवुड के निर्देशकों में गिना जाता है जिनकी बनाई हर फिल्म ब्लॉकबस्टर हुई है। राजकुमार के द्वारा बनाई गई हर फिल्म ने नए रिकॉर्ड बना दिए। आप सभी को बता दें कि राजकुमार हिरानी के पिता सिंध (अब पाकिस्तान) के रहने वाले थे, जो कि एक टाइपिंग स्कूल चलाते थे। वह बंटवारे के बाद भारत आ गए, लेकिन राजकुमार हिरानी ने पापा के नक़्शे कदम पर ना चलकर कुछ बड़ा करने के बारे में सोचा।

उनका थियेटर की तरफ रुझान था और उसके चलते उन्होंने फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट पुणे में दाखिला लिया। वह हीरो बनना चाहते थे लेकिन पढ़ाई के दौरान उनका इरादा बदल गया और वो कोर्स बदल निर्देशन में आ गए। साल 1993 में फिल्मों की तरफ उन्होंने कदम बढ़ाया। वह विज्ञापनों के लिए काम करते रहे और साल 1994 में '1942 ए लव स्टोरी', और 1998 में 'करीब' के प्रोमो के लिए काम किया। उसके बाद साल 2000 में 'मिशन कश्मीर' और साल 2001 में 'तेरे लिए' के लिए एडिटिंग की, हालाँकि उनका असली सफर 2003 में शुरू हुआ। आपको बता दें कि उनके निर्देशन में बनी पहली फिल्म 'मुन्नाभाई एमबीबीएस' आई और संजय दत्त-अरशद वारसी की मुख्य भूमिकाओं वाली इस फिल्म ने कामयाबी का एक नया मुकाम बना डाला।

राजकुमार हिरानी की इस फिल्म को कई अवॉर्ड मिले। करीब तीन साल बाद 2006 में राजकुमार हिरानी 'मुन्ना भाई एमबीबीएस' का अगला भाग 'लगे रहो मुन्नाभाई' लेकर आए और यह भी सुपरहिट हुई। उसके बाद उन्होंने साल 2009 में फिल्म 'थ्री इडियट्स' को तैयार किया और इस फिल्म को हिन्दी सिनेमा की सबसे शानदार फिल्मों में से एक माना जाता है। इस फिल्म के बाद साल 2014 में वह फिल्म 'पीके' लेकर आए। इस फिल्म ने कमाई के मामले में नए कीर्तिमान स्थापित किए। फिल्म को खूब सराहा गया। वह संजय दत्त की बायोपिक संजू भी ला चुके हैं जो धमाकेदार रही है। वहीं राजकुमार हिरानी 11 फिल्मफेयर अवार्ड जीत चुके हैं और आज उन्हें हमारी तरफ से जन्मदिन की शुभकामनाएं।

जानिए कौन हैं कॉमेडियन 'वीर दास'? जिनकी कविता से भारत में आया तूफ़ान

'भीख में मिली आजादी' वाले बयान पर बढ़ी कंगना की परेशानी, भेजा गया लीगल नोटिस

हिंदी ही नहीं कई भाषाओं में अपनी आवाज का जादू चला चुके है जुबीन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -