ट्रैन में अंडे और कंघी बेचा करते थे अभिनेता महमूद

ट्रैन में अंडे और कंघी बेचा करते थे अभिनेता महमूद

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेताओं में शुमार हम बात कर रहे है 'महमूद' के बारे में जो एक भारतीय अभिनेता और फ़िल्म निर्देशक थे. हिन्दी फ़िल्मों में उनके हास्य कलाकार के तौर पर किये गये अदभुत अभिनय के लिये वे जाने और सराहे गये है. तीन दशक लम्बे चले उनके करीयर में उन्होने 300 से ज़्यादा हिन्दी फ़िल्मों में काम किया. महमूद का जन्म 29 सितम्बर 1932, को मुंबई में हुआ था. महमूद अली अभिनेता बंनने से पहले छोटे मोटे काम करते थे, वाहन चलाने का काम भी करते थे. उस ज़माने में मीना कुमारी को टेबल टेनिस सिखाने के लिये उन्हे नौकरी पर रखा गया था. बाद में उन्होने मीना कुमारी की बहन मधु से शादी की. शादी करने और पिता बनने के बाद ज़्यादा पैसे कमाने के लिये उन्होने अभिनय करने का निश्चय किया. शुरुआत में उन्होने "दो बीघा ज़मीन" और "प्यासा" जैसी फ़िल्मों में छोटे मोटे पात्र निभायें. महमूद को फिल्मों में पहला बड़ा ब्रेक फिल्म परवरिश (1958) में मिला था.

इसमें उन्होंने फिल्म के नायक राजकपूर के भाई का किरदार निभाया था. बाद में उन्होंने फिल्म गुमनाम में एक दक्षिण भारतीय रसोइए का कालजई किरदार अदा किया. उसके बाद उन्होंने प्यार किए जा, प्यार ही प्यार, ससुराल, लव इन टोक्यो और जिद्दी जैसी हिट फिल्में दीं. बाद में उन्होंने कुछ फिल्मों में मुख्य भूमिका भी निभाई लेकिन दर्शकों ने उन्हें एक कॉमेडियन के तौर पर ज्यादा पसंद किया. महमूद ने बाद में अपना स्वयं का प्रोडक्शन हाउस खोला. उनकी पहली होम प्रोडक्शन फिल्म छोटे नवाब थी. बाद में उन्होंने बतौर निर्देशक सस्पेंस-कॉमेडी फिल्म भूत बंगला बनाई. उसके बाद उनकी फिल्म पड़ोसन 60 के दशक की जबर्दस्त हिट साबित हुई. पड़ोसन को हिंदी सिने जगत की श्रेष्ठ हास्य फिल्मों में गिना जाता है. अपनी अनेक फिल्मों में वह नायक के किरदार पर भारी नजर आए. उस समय बॉलीवुड के अधिकतर हीरो महमूद की एक्टिंग से डरते थे. लेकिन महमूद किसी एक्टर से नहीं डरते थे. उन्हें बस एक इंसान से डर लगता था और वो थे, किशोर कुमार.

उनका कहना था कि ‘‘मैं सभी अभिनेताओं की सीमा जानता हूँ कि कौन कितने पानी में है, लेकिन किशोर कुमार का पता लगाना थोड़ा मुश्किल है. वो कभी भी कुछ भी कर जाते हैं अपने किरदार के साथ.’’ लेकिन बाद में उन्होंने किशोर कुमार और सुनील दत्त के साथ फिल्म ‘पड़ोसन’ की जिसे आज भी सर्वश्रेष्ठ हास्य फिल्म की श्रेणी में गिना जाता है. यह फिल्म उस समय जबरदस्त हिट हुई थी. एक समय में महमूद ने ट्रेन में अंडे और कंघी भी बेचीं थी.

रिलीज़ हुआ इमरान हाशमी की फिल्म हरामी का ट्रेलर

सुशांत के फ्रेंड ने खोला बड़ा राज़, दिशा की मौत पर CBI से कही ये बात

दिशा सालियान के मंगेतर पर सुशांत के दोस्त ने लगाए गंभीर आरोप, CBI से की ये मांग