विकलांग व्यक्ति की फांसी टली, हत्या का है दोषी

विकलांग व्यक्ति की फांसी टली, हत्या का है दोषी

इस्लामाबाद : पाकिस्तान के फैसलाबाद में एक विकलांग की फांसी को टाल दिया गया है. प्रशासन का कहना है नियमों में यह स्पष्ट नहीं है कि विकलांग व्यक्ति को फांसी कैसे दी जा सकती है. 43 वर्षीय अब्दुल बासित को पंजाब की फैसलाबाद जेल में फांसी दी जानी थी. मस्जिट्रेट ने कहा कि बासित को जेल नियमों के तहत फांसी नहीं दी जा सकती इसीलिए उसकी फांसी टाली जा रही है. एक अधिकारी ने बताया कि स्थानीय कानूनों के अनुसार मुजरिम को फांसी के समय तख्ते पर खड़ा होना होता है, लेकिन बासित पैरों से अपंग है और वह व्हीलचेयर पर है. इस स्थिति में प्रशासन उसे फांसी नहीं दे सकता इसके लिए प्रशासन ने पंजाब के गृह विभाग और जेल महानिरीक्षक से राय मांगी है.

बता दें कि बासित को 2009 में एक व्यक्ति की हत्या का दोषी पाया गया था, लेकिन 2010 में ट्यूबरक्लोसिस मैनिंजाइटिस से पीड़ित होने पर उसे लकवा मार गया. पहले उसे 29 जुलाई को फांसी दी जानी थी लेकिन उसकी खराब हालत को देखते लाहौर हाई कोर्ट ने उसकी फांसी टाल दी थी. वहीं कई मानवाधिकार समूहों ने बासित की फांसी रद्द किए जाने की मांग की थी.