हमसे बडा कोई बदनसीब ना होगा

ब हमे कभी तेरा दीदार नसीब ना होगा,
दोसती का रिशता कभी करीब ना होगा,
करोध मे पैदा की हमने जो गलतफहमियां,
शायद हमसे बडा कोई बदनसीब ना होगा.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -