शिक्षा में छिपा हैं आधी आबादी का 'विकास'

By Sandeep Mehra
Dec 03 2017 03:19 PM
शिक्षा में छिपा हैं आधी आबादी का 'विकास'

देहरादून: महिलाओं की सुरक्षा और जागरूकता विषय को ध्यान में रखते हुए कल पुलिस लाइन में एक कार्य शाला का आयोजन किया गया. जिसमे शिक्षा संबंधी विषय पर भी काफी जोर दिया गया. इस कार्यशाला में आधी आबादी को शिक्षा का महत्व बताया गया. इसी के साथ विद्यालय की बच्चियों को अपनी रक्षा और घुड़सवारी के गुर भी सिखाए गए. कार्यशाला विंग कमांडर अनुपमा जोशी ने कहा कि महिलाएं समाज का मूल स्तंभ हैं. 

महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए शिक्षा बेहद जरूरी है, महिलाओं की सुरक्षा के लिए कानूनों में भी विशेष प्रावधान किए गए हैं. लेकिन, जब तक महिला शिक्षित नहीं होगी तब तक ना सिर्फ उनका विकास अवरुद्ध रहेगा, बल्कि सामाजिक स्तर पर हो रहे अत्याचारों को रोकना भी कठिन होगा. 

अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित डॉ. हर्षवंती बिष्ट ने कहा कि, 'महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस व सरकार के साथ-साथ आमजन की भी है जब तक समाज महिलाओं के प्रति अपना नजरिया नहीं बदलेगा, तब तक समाज में महिलाओं की स्थिति में परिवर्तन नहीं आ सकता'. इससे पूर्व एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने कार्यशाला के महत्व के बारे में विस्तार से बताया. कहा कि, 'आगामी 17 दिसंबर को इस मुहिम को आगे बढ़ाते हुए हाफ मैराथन का भी आयोजन किया जा रहा है'.

ये भी पढ़ें-

300 इंजीनियरिंग कॉलेजों पर लगेगे ताले

SEBI ने निकाली भर्तियां, जाने आवेदन प्रक्रिया

जानिए, क्या कहता है 3 दिसंबर का इतिहास

जॉब और करियर से जुडी हर ख़बर न्यूज़ ट्रैक पर सिर्फ एक क्लिक में, पढिये कैसे करे जॉब पाने के लिए तैयारी और बहुत कुछ.