शिवलिंग मिलने के बाद ज्ञानवापी का वजूखाना सील, आज जुम्मे की नमाज़ के लिए किए गए खास इंतज़ाम

वाराणसी: वाराणसी स्थित विवादित ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने को शिवलिंग पाए जाने के बाद सील कर दिया गया है। इसे देखते हुए वाराणसी के डीएम कौशल राज शर्मा ने नमाजियों के लिए विशेष प्रबंध करवाया है। रिपोर्ट्स के अनुसार, प्रशासन ने शुक्रवार (20 मई 2022) यानी जुम्मे की नमाज से पहले वजू करने के लिए विवादित ढाँचे में 50 लोटे और दो ड्रम पानी की व्यवस्था करवाई है।

वहीं, वाराणसी के अंजुमन इंतजामिया मस्जिद कमेटी ने लोगों से आग्रह किया है कि वे शुक्रवार की नमाज अदा करने के लिए बड़ी तादाद में मस्जिद में न आएँ। इसकी वजह ज्ञानवापी का वजूखाना सील होना बताई जा रही है। लोगों से अपने मोहल्‍ले की मस्जिदों में ही जुम्मे की नमाज पढ़ने की अपील की गई है। बताया जा रहा है कि जुम्मे की नमाज से पहले गुरुवार (19 मई 2022) को डीएम कौशल राज शर्मा ने वाराणसी के मुस्लिम प्रतिनिधियों और धर्मगुरुओं के साथ मीटिंग की थी। इस बैठक में उन्होंने मुस्लिमों से शांति-व्यवस्था बनाए रखने का आग्रह करते हुए उन्हें नमाज से पहले वजू के लिए पूरा प्रबंध कराने की जानकारी दी। डीएम ने कहा कि ज्ञानवापी में नमाजियों को वजू करने में कोई परेशानी न आए, इसके लिए परिसर में 2 ड्रम पानी और 50 लोटों का प्रबंध किया गया है।

बता दें कि वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद में तीन दिनों तक सर्वे का काम हुआ था। तीसरे दिन हिन्दू पक्ष की ओर से सोमवार (16 मई, 2022) को लगभग 12 फीट 8 इंच लंबा शिवलिंग नंदी के सामने वजूखाने में मिलने का दावा किया गया था। जिसके बाद वाराणसी सिविल कोर्ट के न्यायमूर्ति रवि कुमार दिवाकर ने उस जगह को सील कर CRPF के सुपुर्द करने का निर्देश दिया था। वहीं, शीर्ष अदालत ने जिला प्रशासन को आदेश दिया था कि जिस स्थान पर शिवलिंग पाया गया है, उसे सील कर पूरी सुरक्षा दी जाए, मगर इसकी वजह से नमाज में बाधा नहीं आनी चाहिए।

मरीज की किडनी से निकले 206 स्टोन, इस एक गलती से हुआ था ये हाल

बिहार में आसमान से बरसी आफत, भीषण आंधी-बारिश में 10 लोगों की मौत

जेल जाने से पहले 'बीमार' पड़ गए सिद्धू, कोर्ट से सरेंडर के लिए माँगा वक़्त

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -