सिखों के दसवें गुरु थे गुरु गोबिंद सिंह, 9 साल की उम्र में बन गए थे सिखों के नेता और रक्षक

गुरु गोबिंद सिंह का निधन 7 अक्टूबर को हुआ था और उन्हें सिखों के दसवें गुरु के रूप में पूजा जाता है। वहीं ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार, गुरु गोबिंद सिंह की जयंती हर साल दिसंबर या जनवरी में पड़ती है, लेकिन गुरु की जयंती का वार्षिक उत्सव नानकशाही कैलेंडर के अनुसार होता है।

कहा जाता है गुरु गोबिंद सिंह जी गोबिंद राय के रूप में पटना में पैदा हुए जो दसवें सिख गुरु बने। वह एक आध्यात्मिक नेता, योद्धा, कवि और दार्शनिक थे। जी हाँ और वह औपचारिक रूप से नौ साल की उम्र में सिखों के नेता और रक्षक बन गए, जब नौवें सिख गुरु और उनके पिता गुरु तेग बहादुर औरंगजेब द्वारा इस्लाम में परिवर्तित होने से इनकार करने के लिए मार दिए गए थे। बहुत कम लोग जानते हैं कि गुरु गोबिंद जी ने अपनी शिक्षाओं और दर्शन के माध्यम से सिख समुदाय का नेतृत्व किया और जल्द ही ऐतिहासिक महत्व प्राप्त कर लिया। जी हाँ और वह खालसा को संस्थागत बनाने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। गुरु गोबिंद सिंह जी ने अपनी मृत्यु से पहले 1708 में गुरु ग्रंथ साहिब को सिख धर्म का पवित्र ग्रंथ घोषित किया था।

जी दरअसल गुरु गोबिंद सिंह जी एक महान योद्धा थे। वह कविता और दर्शन और लेखन के प्रति अपने झुकाव के लिए जाने जाते थे। उन्होंने मुगल आक्रमणकारियों को जवाब देने से इनकार कर दिया और अपने लोगों की रक्षा के लिए खालसा के साथ लड़ाई लड़ी। उनके मार्गदर्शन में उनके अनुयायियों ने एक सख्त संहिता का पालन किया। वहीं उनके दर्शन, लेखन और कविता आज भी लोगों को प्रेरित करते हैं।

गुरु गोबिंद सिंह ही थे जिन्होंने सिखों द्वारा पालन किए जाने वाले पांच ककार का परिचय दिया था:
केश: बिना कटे बाल
कंघा : एक लकड़ी की कंघी
कारा: कलाई पर पहना जाने वाला लोहे या स्टील का ब्रेसलेट
कृपाण: एक तलवार
कच्छेरा: छोटी जांघिया

गुरु गोबिंद सिंह एक कवि, आध्यात्मिक गुरु, योद्धा, दार्शनिक और लेखक भी थे। साल 1708 में उनका निधन हो गया लेकिन उनके मूल्य और विश्वास उनके अनुयायियों के माध्यम से जीवित हैं।

आज है पापांकुशा एकादशी, इस कथा को पढ़े-सुने बिना नहीं पूरा होगा व्रत

नवमी के दिन करें माँ सिद्धिदात्री का पूजन, जानिए कैसे हुआ था जन्म

क्यों मनाया जाता है दशहरा, जानिए पौराणिक कथा

 

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -