गुरु अर्जन देव की जयंती पर जानें कुछ महत्वपूर्ण बातें

Apr 15 2021 02:04 AM
गुरु अर्जन देव की जयंती पर जानें कुछ महत्वपूर्ण बातें

गुरु अर्जन (15 अप्रैल 1563 - 30 मई 1606) सिख धर्म में शहीद हुए दो गुरुओं में से पहले और दस कुल सिख गुरुओं में से पांचवें थे। उन्होंने सिख ग्रंथ के पहले आधिकारिक संस्करण का संकलन किया, जिसे आदि ग्रंथ कहा जाता है, जो बाद में गुरु ग्रंथ साहिब में विस्तारित हुआ। उनका जन्म पंजाब के गोइंदवल में हुआ था, जो भाई जेठा के सबसे छोटे बेटे थे, जो बाद में गुरु राम दास और गुरु अमर दास की बेटी माता भानी बन गए। उन्होंने अमृतसर में दरबार साहिब का निर्माण पूरा किया, चौथे सिख गुरु ने शहर की स्थापना की और एक पूल का निर्माण किया। गुरु अर्जन ने सिख धर्मग्रंथ के पहले संस्करण आदि गुरु और अन्य संतों के भजनों को संकलित किया और इसे हरिमंदिर साहिब में स्थापित किया। 

गुरु अर्जन ने गुरु राम दास द्वारा शुरू की गई मसूद प्रणाली को पुनर्संगठित किया, यह सुझाव देकर कि सिख दान करते हैं, यदि संभव हो तो अपनी आय, माल या सेवा का दसवां हिस्सा सिख संगठन (दासवंद) को देते हैं। मसंद ने न केवल इन निधियों को एकत्र किया बल्कि सिख धर्म के सिद्धांतों को भी पढ़ाया और अपने क्षेत्र में नागरिक विवादों का निपटारा किया। दासवंद ने गुरुद्वारों और लंगरों (साझा सांप्रदायिक रसोई) की इमारत का वित्त पोषण किया।

गुरु अर्जन को मुग़ल बादशाह जहाँगीर के आदेश के तहत गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें धर्म परिवर्तन करने के लिए कहा गया।  उन्होंने मना कर दिया, 1606 सीई में प्रताड़ित और मार डाला गया।  ऐतिहासिक अभिलेख और सिख परंपरा स्पष्ट नहीं है कि क्या गुरू अर्जन को डूब कर यातना के दौरान मार दिया गया था। उनकी शहादत को सिख धर्म के इतिहास में एक वाटरशेड घटना माना जाता है। इसे 2003 में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति द्वारा जारी नानकशाही कैलेंडर के अनुसार मई या जून में गुरु अर्जन के शहीदी दिवस के रूप में याद किया जाता है।

CBSE Exam 2021: CBSE ने रद्द की 10वीं की परीक्षाएं, 12वीं की एग्जाम स्थगित

इंडियन आइडल 12 के सेट पर बाबा रामदेव ने किया बड़ा खुलासा, कंटेस्टेंट हुए दंग

कोरोना काल में हुआ 1 लाख लोगों का धर्मान्तरण, 50000 गांवों को चर्चों ने लिया गोद