अंडरवर्ल्ड ने की थी गुलशन कुमार की हत्या!, एक छोटी सी दुकान से शुरू किया था बिजनेस

टी-सीरिज के फाउंडर गुलशन कुमार की मृत्यु आज ही के दिन हुई थी. जी हाँ, (12 अगस्त) को साल 1997 में अंधेरी के जीतेश्वर महादेव मंदिर के सामने उन्हें गोली मार दी गई थी. जिससे उनकी मौत हो गई थी. आप सभी को बता दें कि ऐसा कहा जाता है, 'गुलशन ने अंडरवर्ल्ड की जबरन वसूली की मांग के सामने झुकने से इंकार कर दिया था, जिसकी वजह से उनकी हत्या कर दी गई थी.' इसके अलावा ऐसा भी बताया जाता है कि 'अबु सलेम ने गुलशन कुमार से जब हर महीने 5 लाख रुपए देने के लिए कहा तो गुलशन कुमार ने इनकार करते हुए कहा था कि इतने रुपए देकर वो वैष्णो देवी में भंडारा कराएंगे.'

वहीं आप जानते ही होंगे अब गुलशन कुमार की मौत के बाद उनके बेटे भूषण कुमार ने टी-सीरिज की जिम्मेदारी संभाल ली है और आज भी टी-सीरिज बुलंदियों पर है. वैसे बहुत कम लोग जानते हैं कि गुलशन कुमार के पिता चन्द्रभान दुआ एक समय में दिल्ली के दरियागंज में जूस बेचा करते थे. वहीं उस समय गुलशन कुमार भी जूस की दुकान पर अपने पिता का हाथ बंटाते थे और वहीं से उनमे बिजनेस को लेकर एक उम्मीद पैदा हुई. उसके बाद जिस समय वह 23 साल के थे उस समय उन्होंने परिवार की मदद से एक दुकान को टेकओवर किया और रिकार्ड्स और ऑडियो कैसेट बेचना शुरू किया. उसके बाद आगे चलकर उन्होंने नोएडा में अपनी कंपनी खोली और देखते ही देखते यह म्यूजिक इंडस्ट्री में बड़ा नाम बन गए.

उन्होंने अपने ऑडियो कैसेट के बिजनेस को 'सुपर कैसेट्स इंडस्ट्रीज लिमिटेड' का नाम दिया, जिसे आज के समय में टी-सीरीज के नाम से पहचाना जाता है. धीरे धीरे वह म्यूजिक इंडस्ट्री के सफल बिजनेसमैन में शामिल हो गए और ऑडियो कैसेट्स में सफलता के बाद गुलशन कुमार ने फिल्म इंडस्ट्री की ओर कदम रखा जहाँ से उनका करियर चल निकला. वैसे धर्म में भी वह खूब रूचि रखते थे और उन्होंने वैष्णो देवी आने वाले भक्तों के लिए भंडारे का आयोजन शुरू कराया था, जो आज भी चलता है.

जमकर धमाल मचा रहा है गिप्पी ग्रेवाल का नया गाना 'सोने दी डिब्बी'

कोरोना को लेकर रूस ने दी गुड न्यूज, राष्‍ट्रपति पुतिन की बेटियों को लगा टीका

पॉलीवुड एक्टर कुलविंदर बिल्ला को हुआ कोरोना संक्रमण

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -