सगे भाई के बच्चे को किशोरी ने दिया जन्म, फिर अपना पाप छुपाने के लिए किया ये काम

सगे भाई के बच्चे को किशोरी ने दिया जन्म, फिर अपना पाप छुपाने के लिए किया ये काम

सूरत: गुजरात के सूरत जिले में 15 जनवरी को एक युवती ने अपनी मासूम बच्ची को कचरा पेटी में फेंक दिया। अब उस बच्ची के माता-पिता की जानकारी मिल गई है। दरअसल, पुलिस जांच में यह बात प्रकाश में आई है कि एक 18 वर्षीय किशोरी ने अपने ही भाई की संतान को जन्म देने के बाद उसे कूड़े में फेंक दिया था। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी नाबालिग भाई के खिलाफ दुष्कर्म की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, यह घटना सूरत के उमरा थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले एक गांव की है। बताया जाता है कि 15 जनवरी को एक युवती को कूड़े के ढेर से किसी छोटे बच्चे का रुदन सुनाई दिया। वह पहुंची तो उसमें कुछ ही दिन की नवजात बच्ची दिखाई दी। इस बारे में स्थानीय निवासी प्रतिभा बोरसे ने बताया है कि वह युवती नवजात बच्ची को कूड़े के ढेर से उठाकर अपने घर ले गई और उसे नहला-धुलाकर  कपड़े पहना इसकी सूचना पुलिस को दी। इसके साथ ही उन्होंने 108 नंबर पर फोन कर एंबुलेंस बुला इलाज के लिए बच्ची को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया।

इस मामले की जब पुलिस ने पड़ताल की, तब गांव में एक युवती के गर्भवती होने के बारे में पता चला। जब उससे पूछताछ की गई, तो उसने सारे राज खोल दिए। किशोरी ने जो जानकारी दी, उससे पुलिस भी दंग रह गई। किशोरी ने बताया कि उसके सगे भाई के साथ शारीरिक संबंध थे, जिससे वह प्रेग्नेंट हो गई थी। उसी ने बच्ची को जन्म देने के बाद अपना पाप छिपाने के लिए कूड़े के ढेर में फेंक दिया। किशोरी के इस खुलासे के बाद पुलिस ने उसके भाई के विरुद्ध पॉक्सो एक्ट के साथ ही दुष्कर्म की धारा में मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है।

छत्तीसगढ़: घर में मिली तीन लोगों की जली हुई लाश, मृतकों में महिला-पुरुष के साथ एक अबोध बालिका शामिल

सिक्खों के दो गुटों में हिंसक झड़प, तीन की मौत, दो गिरफ्तार

दुष्कर्म के आरोपी को 10 वर्ष की सजा, दोस्त की नाबालिग बेटी का किया था रेप