मुस्लिम फेरीवालों से खरीदा सामान तो देना होगा 5100 रुपये का जुर्माना

उदयपुर: उयदयपुर में हुई टेलर की हत्या के विरोध में एक नई पहल की गई है। जी दरअसल गुजरात के बनासकांठा में मुस्लिम फेरीवालों से सामान नहीं खरीदने का फरमान जारी किया गया है। वहीं इस पर बीते शनिवार को बनासकांठा प्रशासन की प्रतिक्रिया सामने आई है। जी दरअसल प्रशासन की ओर से कहा गया है कि वाघासन समूह की ग्राम पंचायत के लेटर पैड पर दुकानदारों को "मुस्लिम फेरीवालों" से सामान नहीं खरीदने का जो निर्देश दिया गया है, वो आधिकारिक नहीं है। आप सभी को बता दें कि एक न्यूज एजेंसी के मुताबिक, बनासकांठा जिला विकास अधिकारी स्वप्निल खरे ने कहा कि जिस व्यक्ति ने वाघासन समूह ग्राम पंचायत के लेटर पैड पर आदेश के हस्ताक्षर किए हैं, उसके पास ऐसा करने का अधिकार नहीं है, क्योंकि पंचायत वर्तमान में एक प्रशासक के अधीन है और सरपंच पद के लिए चुनाव होना है।

वहीं खरे ने कहा, "प्रशासक ने एक स्पष्टीकरण जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि जारी किया गया पत्र निराधार है और किसी को भी इसका पालन करने की आवश्यकता नहीं है। अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।" बीते 30 जून के लेटर पैड को इस समय तेजी से वायरल किया जा रहा है। इसमें कहा गया है कि वाघासन गांव के दुकानदारों को उदयपुर में टेलर की हत्या के मद्देनजर मुस्लिम समुदाय के फेरीवालों (व्यापारियों) से सामान नहीं खरीदना चाहिए। इस पर पूर्व सरपंच माफ़ीबेन पटेल के हस्ताक्षर और मोहर है।

इस समय पूरे सोशल मीडिया पर इसके तेजी से वायरल होने के बाद स्थानीय प्रशासन के संज्ञान में आए पत्र में कहा गया है, 'अगर कोई दुकानदार मुस्लिम व्यापारियों से सामान लेते हुए देखा गया तो उस पर 5100 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा और वो पैसा योगदान गोशाला को दिया जाएगा। ' वहीं इस पर खरे ने कहा, "किसी को भी ऐसा कोई लेटर पैड जारी करने का अधिकार नहीं है। पत्र जारी करने वाला व्यक्ति पूर्व सरपंच है। सरपंच का चुनाव होना है और यह वर्तमान में प्रशासक के अधीन है।"

आपको बता दें कि बनासकांठा जिला प्रशासन द्वारा जारी एक बयान में वाघासन ग्राम पंचायत प्रशासक आरआर चौधरी के हवाले से कहा गया है कि उन्हें सोशल मीडिया के माध्यम से लेटर पैड में लिखी गई बातों के बारे में पता चला। केवल यही नहीं बल्कि विज्ञप्ति में कहा गया है कि वाघासन समूह ग्राम पंचायत को विभाजित किया गया है और वाघासन ग्राम पंचायत को अलग कर दिया गया है। पिछले साल 2 नवंबर को इसके लिए एक प्रशासक नियुक्त किया गया था। इसके अलावा विज्ञप्ति में यह भी कहा गया है, "वर्तमान में, सावपुरा के तलाटी-सह-मंत्री आरआर चौधरी वाघासन ग्राम पंचायत के प्रशासक के रूप में काम कर रहे हैं। इस प्रकार, यह लेटर पैड मौजूदा वाघासन ग्राम पंचायत द्वारा नहीं लिखा गया है और न ही इसका समर्थन करता है। ऐसा करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।"

आप सभी जानते ही होंगे कि उदयपुर में टेलर कन्हैया लाल की 28 जून को दो व्यक्तियों ने हत्या कर दी थी, जिन्होंने ऑनलाइन पोस्ट किए गए एक वीडियो में कहा था कि 'उन्होंने इस्लाम के अपमान का बदला लिया है।' इस हत्या के आरोप में अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

नूपुर शर्मा को दोषी बताने वाले जजों को जस्टिस ढींगरा ने सिखाया कानून, पढ़ें एक·एक बयान

'इस्लाम के नाम पर 1400 सालों से।।।', नूपुर शर्मा पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी पर वरिष्ठ अधिवक्ता का बयान

गिरफ्तार हुए दवा कारोबारी के हत्यारे, एक पोस्ट के कारण की थी हत्या

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -