रामसण गाँव के लोगों ने 207 सालों से नहीं मनाई होली, वजह जानकर चौंक जाएंगे आप

Mar 10 2020 09:00 AM
रामसण गाँव के लोगों ने 207 सालों से नहीं मनाई होली, वजह जानकर चौंक जाएंगे आप

बनासकांठा: जहां एक ओर पूरा देश धूमधाम से होली का पर्व मना रहा है और वहीं दूसरी ओर गुजरात के बनासकांठा जिले में स्थित रामसण गांव में होली मनाना अशुभ माना जाता है। इस गांव में विगत 207 वर्षों ने होली नहीं मनाई गई है। होली के दिन यहां न तो रंग खेला जाता है और न ही होलिका दहन किया जाता है। बता दें कि इस गांव का पुराना नाम रामेश्वर है और मान्यता यह है कि श्री राम ने यहां रामेश्वर भगवान की पूजा की थी। रामसण गांव में अभी लगभग 10 हजार लोग रहते हैं।

रामसण गांव के लोगों का मानना है की इस गांव में 207 वर्ष पूर्व होलिका दहन किया गया था और धूमधाम से होली मनाई गई थी,  किन्तु फिर उस दिन अचानक ही पूरे गांव में आग भड़क गई। आग की वजह अधिकतर घर जलकर राख हो गए थे। तभी से गांव के लोग डर गए और होली का पर्व मनाना ही बंद कर दिया। उस घटना के बाद से गांव के लोगों ने आज तक कभी भी होली नहीं मनाई गई है। दरअसल होलिका नहीं जलाने के पीछे गांव के लोगों की मानना है कि इस गांव के राजा ने साधु-संतो का तिरस्कार किया था। 

इस बात को लेकर साधु-संत गुस्सा हो गए और उन्होंने इस गांव और राजा को श्राप दे दिया कि होली के दिवस इस गांव में आग लग जाएगी और पूरा गांव जल जाएगा। फिर जब गांव वालों ने होलिका दहन किया तो पूरे गांव में आग भड़क उठी। इसके बाद से ही गांव के लोगों ने होली मानना बंद कर दिया। फिर इस सबके बाद भी कई वर्ष के बाद जब फिर गांव वालों ने होली मनाई और होलिका दहन किया तो एक बार फिर से पूरे गांव में आग भड़क उठी थी। जिसमें कई घर जलकर खाक हो गए थे। तब से लेकर आज तक गाँव वालों ने होली नहीं मनाई है।

2004 में डूब चुके इस बैंक को OBC में करना पड़ा था विलय

Global Share Market: कोरोना वायरस और क्रूड ऑयल वॉर के कारण बाजार में भारी गिरावट

30 फीसदी तक गिरे क्रूड आयल के दाम, घट सकते हैं पेट्रोल-डीज़ल के भाव