जल्द ही बच्चों की कोरोना वैक्सीन के लिए जारी की जा सकती है गाइड लाइन

नई दिल्ली: गवर्नमेंट द्वारा आने वाले हफ्ते बच्चों के टीकाकरण के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए है। जहां इस बात का पता चला है कि देश के प्रमुख निजी हॉस्पिटल ने वैक्सीन उपलब्ध होने पर बच्चों का कोरोना वायरस टीकाकरण प्रदान करने के लिए विभिन्न स्कूलों के साथ वार्तालाप शुरू कर दिए है। मैक्स हेल्थकेयर ने बोला है कि वह सरकार के टीकाकरण अभियान का समर्थन करने के लिए विभिन्न प्रमुख स्कूलों के साथ टाइअप की तलाश में जुटे हुए है। रिपोर्ट में फोर्टिस हेल्थकेयर के हवाले से बोला गया है कि यदि 2-18 वर्ष के मध्य के बच्चों के लिए स्वीकृत वैक्सीन शुरू की जाएगी तो ऐसे में हॉस्पिटल स्कूलों, कॉलेजों और हाउसिंग सोसायटियों के साथ टाइअप करने के बारें में सोच रहे है ताकि अधिक से अधिक बच्चों को वैक्सीन लगाई जा सके।

टीकाकरण के स्कूलों के बुनियादी ढांचे का इस्तेमाल: अब तक गवर्नमेंट ने जायडस कैडिला के टीके जायकोव डी को 12 वर्ष से कम आयु  के बच्चों में इस्तेमाल की अनुमति दे दी है। भारत बायोटेक के COvaccine को भी जल्द ही ड्रग रेगुलेटर की अनुमति की उम्मीद है, क्योंकि इसकी विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने हाल ही में 2 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में जिसके उपयोग की सिफारिश की थी। हॉस्पिटल परिसर में वैक्सीनेशन कराने की संभावना पर हॉस्पिटल विचार कर रहे हैं। वे स्कूलों से बुनियादी ढांचा मुहैया कराने और अभिभावकों से सहमति लेने की बात कर रहे है। एक अन्य मीडिया रिपोर्ट में निजी हॉस्पिटल के एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से बोला गया है कि हम स्कूलों के साथ वार्तालाप कर रहे हैं। कई लोगों ने बोला है कि एक बार जब सरकार निर्णय कर लेगी, तो हम अपने स्टैंड को मजबूत करने वाले है। वैक्सीनेशन के लिए स्कूल के बुनियादी ढांचे का उपयोग किया जा सकता है।

सुरक्षा प्रोटोकॉल के बारे में भी बातचीत: कई स्कूल फिर से खुलते ही हॉस्पिटल से संपर्क कर चुके हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह भी कहा गया है कि स्कूल न केवल वैक्सीनेशन के बारे में, बल्कि सुरक्षा प्रोटोकॉल के बारे में भी वार्तालाप शुरू कर रहे हैं, जिसका उन्हें फिर से पालन करना चाहिए। मैक्स स्मार्ट सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल साकेत में बाल रोग और संक्रामक रोगों के मुख्य सलाहकार अरविंद तनेजा ने भी बोला है कि हॉस्पिटल को विशेष रूप से सत्र फिर से शुरू होने से पहले माता-पिता और स्कूलों से बच्चों के वैक्सीनेशन के बारे में प्रश्न प्राप्त हो रहे हैं। तनेजा ने बोला है कि कोरोना वायरस के टीके बच्चों के लिए बहुत विश्वसनीय और प्रभावी हैं। चूंकि स्कूल फिर से खुल रहे हैं, इसलिए 5 साल से ऊपर के सभी बच्चों को प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीनेशन किया जाना चाहिए। वे संक्रमित हो सकते हैं या वायरस के स्पर्शोन्मुख वाहक हो सकते हैं।

कंगना रनौत पर भड़की उत्तराखंड महिला कांग्रेस, थाने में दर्ज करवाई शिकायत

11 महिलाओं को मिलेगा स्थायी कमीशन, कोर्ट की फटकार के बाद मान गई सेना

दुनिया की सबसे बड़ी शिव प्रतिमा, मनमोहक दृश्य ने किया लोगों का ध्यान आकर्षित

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -