कोरोना संकट के बीच शुरू हुआ फुटबॉल मैच, गुलजार हुआ मैदान

बर्लिन. पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस (Coronavirus) के खौफ में है. इस महामारी के कारण कुछ महीनों से खेल के मैदान सूने पड़े हुए हैं. मगर जर्मनी में इस खौफ के बीच शनिवार से खेल के मैदान गुलजार हो गए हैं. जर्मनी की दूसरे दर्जे की बुंदेसलीगा लीग शनिवार को कोरोना वायरस लॉकडाउन के बाद शुरू होने वाली पहली पेशेवर पश्चिमी यूरोपीय लीग बन गई. शीर्ष दर्जे की बुंदेसलीगा लीग में छह मैच खेले होंगे. जबकि बुंदेसलीगा 2 इससे ढाई घंटे पहले शुरू हो गई, जिसके चार मैच कड़े स्वास्थ्य दिशानिर्देशों के साथ दर्शकों के बिना शुरू हुए.

क्‍वारंटाइन में टीम: बुंदेसलीगा 2 में हनोवर और डायनेमो ड्रेसडन के बीच मैच स्थगित हो गया, क्योंकि ड्रेसडन की टीम को कोविड-19 के लिए हुई जांच में दो परीक्षण पॉजिटिव पाए जाने के बाद पृथकवास में रहने को कहा गया. दक्षिण कोरियाई ली जाए सुंग ने दो महीने बाद शुरू हुई बुंदेसलीगा लीग का पहला गोल किया, जिससे होलस्टेन किएल को तीसरे ही मिनट में बढ़त मिल गई. लीग मार्च के मध्य से निलंबित हो गई थी, जिसमें केवल नौ दौर ही खेले गए थे. स्टेडियम खाली होंगे, जिसमें सिर्फ खिलाड़ियों के चिल्लाने की आवाजें और रैफरियों की सीटी की आवाज सुनाई देगी. जर्मनी में अन्य यूरोपीय देशों की तुलना में कोरोना वायरस से कम मौतें हुई हैं, लेकिन फिर भी दर्शकों का लौटना अब भी खतरनाक है.'बोरूसिया डार्टमंड' का सामना स्थानीय प्रतिद्वंद्वी 'शाल्के 04' से होगा. इस मुकाबले में सामान्य तौर पर 82 हजार के करीब दर्शक आते, लेकिन अब यह बिना दर्शकों के खेला जाएगा. इंग्लैंड, इटली और स्पेन में अभी भी लीग फुटबॉल शुरू होने में एक महीना लगेगा.

दर्शकों के बिना खेले जाने वाले मैचों में चुनिंदा मीडियाकर्मी और अधिकारी ही मौजूद होंगे. लीग के दौरान स्थानापन्न खिलाड़ी मास्क पहनेंगे. गोल का जश्न कोहनी टकराकर मनाया जाएगा. ना तो कोई हाथ मिलाएगा और ना गले मिलेगा. ना तो किसी टीम को घर में खेलने का फायदा मिलेगा और ना मेहमान टीम घाटे में रहेगी.

जुलाई में शुरू होगा इंग्लैंड और पाकिस्तान का मुकाबला

कश्मीर पर शाहिद अफरीदी का विवादित ट्वीट, सोशल मीडिया यूज़र्स ने लगाई क्लास

पहली नजर में जेपी डुमिनी को हो गया था प्यार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -