केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना से बचाव के लिए जारी की गाइडलाइन

Jul 03 2020 02:42 PM
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना से बचाव के लिए जारी की गाइडलाइन

जैसा की सभी जानते है इस समय पूरा देश कोरोना नामक वायरस से लड़ रहा है। इससे निपटने के लिए भारत सरकार ने कई तरह के निर्णय लिए है। वही इस बीच गुरुवार को कोरोना के मरीजों को होम आइसोलेशन में रखने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने नई गाइलडाइन जारी की है। इस गाइडलाइन के अनुसार, वे मरीज जिनमें शुरुआती लक्षण हैं या फिर लक्षण नहीं हैं, तो उन्हें घर पर ही होम आइसोलेशन में रहना होगा। साथ ही उनके संपर्क में आने वाले लोगों को भी होम क्वारंटाइन में रहना होगा। यदि परिवार के किसी एक सदस्य में ये लक्षण पाए जाते है तो पुरे परिवार को क्वारंटाइन में रहना होगा। 

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार घर में कोरोना संक्रमित व्यक्ति की उचित ढंग से देखभाल करनी होगी। इसके साथ-साथ संक्रमित व्यक्ति के परिजनों को लगातार अस्पताल के संपर्क में रहना होगा। मंत्रालय की नई गाइलडाइन में इन बातों का जिक्र किया गया है, जैसे- उन कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों को होम आइसोलेशन में नहीं भेजा जाएगा, जिनका एचआईवी, अंग प्रत्यारोपण और कैंसर जैसी बीमारियों का पहले से इलाज चल रहा हो। 60 साल से अधिक के उम्र के लोगों के लोग जो गंभीर बीमारियों से परेशान हैं उन्हें डॅाक्टर द्वारा पूरी जांच किए जाने के बाद ही होम आइसोलेशन में रखा जाएगा। साथ ही उस व्यक्ति के परिजन को हर वक्त उनका ख्याल रखना होगा और लगातार अस्पताल के संपर्क में रहना होगा। 

वही मंत्रालय का यह भी कहना है कि संक्रमित व्यक्तियों के परिजन और उनसे संपर्क में आने वाले लोग डॅाक्टर से सलाह लेने के बाद हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन प्रोफेलेक्सिस की डोज ले सकते हैं। आरोग्य सेतु एप को डाउनलोड करना होगा और हर वक्त इसे चालू रखना होगा। मरीज को प्रतिदिन अपने स्वास्थ्य की जांच करने के बाद अधिकारियों को इसकी जानकारी देनी होगी। किसी भी मरीज को होम आइसोलेशन में भेजने के लिए इलाज कर रहे डॅाक्टर की अनुमति होना लेना अनिवार्य होगा। इसके साथ ही मरीज को अंडरटेकिंग देनी होगी और क्वारंटाइन के नियमों का पालन करना होगा। अर्थात सरकार द्वारा जारी की गई सभी गाइडलाइन व नियम का ध्यान रखना होगा। तथा डॉक्टर द्वारा दिए गए सारे सुझावों को ध्यान में रखकर, संक्रमित व्यक्ति का ध्यान रखना होगा। क्योकि यदि शुरू से ही संक्रमित व्यक्ति का ध्यान रखा जाएगा तो ज्यादा आगे चल कर ज्यादा परेशानी नहीं होगी। 

अब यहां पर शनिवार-रविवार को रहेगा टोटल लॉकडाउन, दुकानें खुलने का भी वक्त बदला'ड्रैगन' पर नकेल कसने की तैयारी ! लद्दाख से लौटने के बाद पीएम मोदी कर सकते हैं बड़ी बैठक

एमपी के इस जिले से हर साल लापता होते है कई बच्चे, शुरू किया जाएगा विशेष अभियान

'सुपर एनाकोंडा' के बाद पटरी पर दौड़ी 'शेषनाग', भारतीय रेलवे ने रचा नया इतिहासकिसान से 7000 रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ाया पटवारी, लोकायुक्त टीम ने की थी ऐसी पलानिंग