फर्जी ऑक्सीमीटर ऐप से रहे सतर्क, हो सकता है बड़ा नुकसान

फर्जी ऑक्सीमीटर ऐप से रहे सतर्क, हो सकता है बड़ा नुकसान

इंडियंस में आपदा को मौके में परिवर्तित करने की महारत प्राप्त है। चाहे जैसी भी आपदा हो, व्यक्ति उसे अपने फायदे वाले मौके में बदल ही लेते हैं। अभी हाल ही में एक सर्वे से पता चला था कि दिल्ली तथा मुंबई जैसे जिलों में विक्रय होने वाले 50 फीसदी सैनिटाइजर नकली हैं या फिर उनसे स्वास्थ्य को संकट है। यह भी आपदा में अवसर का ही एक उदाहरण है। वहीं ऑक्सीमीटर को लेकर भी यही अवस्था है। दुकानों पर फर्जी ऑक्सीमीटर की भरमार लगी है। इसी मध्य गवर्मेंट ने ऑक्सीमीटर मोबाइल एप को लेकर नागरिकों को सतर्क किया है।

वही साइबर हैकर फेक मोबाइल एप से नागरिकों को ठग रहे हैं। सेंट्रल गवर्मेंट की साइबर इकाई साइबरदोस्त ने ट्वीट करके एडवाइजरी जारी की है जिसमें कहा गया है कि उपभोक्ता को अज्ञात यूआरएल से ऑक्सीमीटर एप डाउनलोड नहीं करना चाहिए। ऐसे एप्स जो कि उपभोक्ता में ऑक्सीजन लेवल के टेस्ट का दावा करते हैं, वे फर्जी हो सकते हैं। इनसे निजी डाटा, बायोमेट्रिक जानकारी चोरी हो सकती है।

साथ ही हेल्थ इंस्टीट्यूट की तरफ से बार-बार कहा जा रहा है कि अगर किसी के खून में ऑक्सीजन की कमी हो रही है तो उसे ज्यादा सावधान रहने की आवश्यकता है। ऐसे में ऑक्सीमीटर की डिमांड बढ़ गई है। मार्केट में अब 500 रुपये में भी ऑक्सीमीटर सरलता से प्राप्त हो रहे हैं। साथ ही आपको जानकर हैरानी होगी कि मार्केट में ऐसे ऑक्सीमीटर आ गए हैं जो फोल्ड पेपर, टूथ ब्रश, पेंसिल आदि में भी बल्ड ऑक्सीजन का लेवल बता रहे हैं। वही जरुरी है कि इन सब चीजों से सतर्क रहा जाए। 

Google Map में ऐड हुआ नया फीचर, बताएगा आपके स्थान में कहां है कोरोना संक्रमित मरीज

Realme का ये शानदार स्मार्टफोन आज होगा सेल के लिए उपलब्ध, 1,889 रुपये की EMI पर ले जाएं घर

आज एक बार फिर Redmi 9i खरीदने का अवसर, जानिए कीमत