विदेशों में फंसे भारतीयों को लाया जाएगा वापस, सरकार ने बनाया 'एग्जिट प्लान'

नई दिल्ली: विदेश मंत्रालय ने अन्य देशों में लॉकडाउन के कारण फंसे भारतीय नागरिकों की वापसी के प्लान पर शनिवार को प्रेजेंटेशन दिया था. ये प्रेजेंटेशन कैबिनेट सचिव राजीव गौबा की तरफ से बुलाई गई शीर्ष अधिकारियों की मीटिंग मे पेश किया गया. विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला ने ‘एग्जिट प्लान’ के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि मंत्रालय किस प्रकार भारतीय नागरिकों की स्वदेश वापसी पर काम कर रहा है. 

उन्होंने बताया कि इसके लिए देखा जा रहा है कि कितने लोग कहां पर फंसे हुए हैं और उन्हें किस देश से भारत में किस राज्य तक लाने के लिए कितनी फ्लाइट्स की आवश्यकता होगी. जहां भी संभव होगा ये प्रयास किया जाएगा कि ऐसे भारतीय नागरिक कोरोना निगेटिव सर्टिफिकेट के साथ वापस आएं.  हर्ष श्रृंगला ने आगे कहा कि ऐसा करने से ये पहचान करने में सहायता मिलेगी कि किन लोगों को क्वारनटीन कैंप में भेजे जाने की जरुरत है और कौन होम क्वारनटीन में भेजे जाएं.

उन्होंने कहा कि विदेश मंत्रालय इस प्लान पर बारीक डिटेल्स के साथ कार्य कर रहा है. इसमें देखा जाएगा कि जब तक फ्लाइट्स दोबारा बहाल नहीं होतीं, तब तक किन लोगों को सबसे पहले स्वदेश वापस लाए जाने की आवश्यकता है और उनके पास इसके लिए क्या मजबूत आधार है. ऐसी सूची उन भारतीय नागरिकों, विजिटर्स और छात्रों तक ही सीमित नहीं रहेगी जो कोरोना संकट की वजह से लॉकडाउन में दूसरे राष्ट्रों में फंसे हैं. इस लिस्ट में उन भारतीयों को भी शामिल किया जाएगा जो पुख्ता ‘मानवीय कारणों’ से घर वापस आना चाहते हैं. ‘

मौलाना का कोरोना ज्ञान, कहा- अश्लीलता बढ़ी, इसीलिए अल्लाह ने भेजी महामारी

आगरा में कोरोना से बिगड़ते हालत पर बोलीं प्रियंका, योगी सरकार को दी ये सलाह

चीन ने किया हैरतअंग्रेज काम, वुहान के अस्पतालों में कोरोना मरीजों की संख्या हुई शून्य

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -