Share:
आधार कार्ड को लेकर सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन, हुआ ये बड़ा बदलाव
आधार कार्ड को लेकर सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन, हुआ ये बड़ा बदलाव

नई दिल्ली: सरकार ने आधार कार्ड को लेकर नए दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं। ये दिशानिर्देश बायोमेट्रिक्स को लेकर है। यदि किसी के पास उंगलियां नहीं है, या फिर आंखें नहीं है। या दोनों में से कुछ भी नहीं है। उसके बाद भी असाधारण इनरोलमेंट के तहत ऐसे लोगों का आधार कार्ड बनाया जाएगा। यह बयान इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी स्टेट मिनिस्टर राजीव चंद्रशेखर की तरफ से दिया गया है। वास्तव में केरल में जोसीमोल पी जोस नाम की महिला का आधार में इनरोलमेंट नहीं हो पा रहा था। इसकी वजह थी कि उस महिला के हाथों में उंगलियां नहीं थी। महिला का आधार में इनरोलमेंट कराने के लिए आईरिस स्कैन करने की बात कही गई है। इसका मतलब है कि यदि किसी के पास उंगलियां नहीं है कि उसका आईरिस स्कैन होगा। बयान में बताया गया है कि UIDAI की एक टीम ने उसी दिन केरल के कोट्टायम जिले के कुमारकम स्थित जोस के घर जाकर आधार नंबर तैयार किया।

चंद्रशेखर ने कहा कि सभी आधार सर्विस सेंटर्स को एक सलाह भेजी गई है जिसमें निर्देश दिया गया है कि वैकल्पिक बायोमेट्रिक्स लेकर जोस जैसे लोगों या जिन व्यक्तियों की उंगलियों के​ निशान धुंधले हो चुके हैं। मंत्री के बयान के मुताबिक, जो आदमी आधार के लिए पात्र है और उंगलियों के निशान देने में असमर्थ है, वह सिर्फ आईरिस स्कैन का इस्तेमाल कर नॉमिनेशन कर सकता है। इसी प्रकार, यदि किसी पात्र व्यक्ति जिसकी आंखों की पुतलियों को किसी भी वजह से नहीं पकड़ा जा सकता है, वह सिर्फ अपने फिंगरप्रिंट का इस्तेमाल करके इनरोल कर सकता है।

वहीं दूसरी तरफ यदि कोई उंगलियों के निशान तथा आईरिस स्कैन दोनों में से कुछ भी नहीं दे सकता है। तब भी अपना इनरोलमेंट आधार में कर सकता है। बयान के मुताबिक, जो व्यक्ति उंगली और आईरिस बायोमेट्रिक्स देने में असमर्थ है तो उसका नाम, लिंग, पता तथा जन्म तिथि का उपलब्ध बायोमेट्रिक्स के साथ मिलान किया जाता है। मंत्री के बयान के मुताबिक, यदि कोई पात्र बायोमेट्रिक्स देने में असमर्थ है तथा वह इनरोलमेंट के प्रोसेस से गुजरा है तथा सभी डॉक्युमेंट देता है तो उसका आधार नंबर जारी किया जा सकता है।

29 लाख आधार नंबर जारी किए
UIDAI ने उन कारणों की भी जांच की कि जब जोस ने पहले इनरोलमेंट किया था तो उसे आधार नंबर क्यों जारी नहीं किया गया था। जांच में खबर प्राप्त हुई कि आधार इनरोलमेंट ऑपरेटर की तरफ से असाधारण इनरोलमेंट प्रोसेस का पालन नहीं किया था। UIDAI असाधारण इनरोलमेंट के तहत प्रतिदिन तकरीबन 1,000 लोगों का आधार में इनरोलमेंट कर रहा है। अब तक, UIDAI ने तकरीबन 29 लाख व्यक्तियों को आधार नंबर जारी किए हैं, जिनकी उंगलियां गायब थीं या उंगली या आईरिस दोनों ही बायोमेट्रिक्स अवेलेबल नहीं थे।

केरल में क्यों जारी हुआ टाइगर को मार डालने का आदेश ?

पहले तो एम्बुलेंस नहीं मिली, फिर अस्पताल ने बॉक्स में भरकर दे दिया नवजात का शव, यह स्थिति देखकर तमिलनाडु सरकार पर भड़के अन्नामलाई

7.5 लाख करोड़ के 10 हज़ार प्रोजेक्ट ! विकास की नई उड़ान भरने को तैयार यूपी, राज्य में बढ़ रहा निवेशकों का भरोसा

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -