इस सैनिटाइजर के निर्यात पर सरकार ने लगाया प्रतिबंध

काफी प्रभावी प्रयासों के बाद भी भारत में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. ऐसे में सरकार ने बुधवार को कहा कि अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर के निर्यात पर प्रतिबंध लागू रहेगा. इस प्रकार के सैनिटाइजर कोरोना वायरस से निपटने में सक्षम हैं. हालांकि, अब गैर अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का निर्यात किया जा सकता है.

डोईवाला में दो दिन से कोई संक्रमित न आने के कारण एक महीने बाद केशवपुरी से हटी पाबंदी

इस मामले को लेकर विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने 24 मार्च की अपनी अधिसूचना में संशोधन किया है. इस अधिसूचना के तहत सभी प्रकार के सैनिटाइजर का निर्यात प्रतिबंधित था. अधिसूचना में संशोधन के बाद अब सिर्फ अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर के निर्यात पर प्रतिबंध रहेगा. उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस महामारी के कारण से देश में हैंड सैनिटाइजर और फेस मास्क की कमी हो गई थी. एक अनुमान के अनुसार, भारत ने वर्ष 2018-19 में 48.5 करोड़ डॉलर (करीब 3,688 करोड़ रुपये) के सैनिटाइजर का निर्यात किया था. अप्रैल 2019 से जनवरी 2020 तक 419 अरब डॉलर (करीब 31,867 अरब रुपये) के सैनिटाइजर का निर्यात किया जा चुका है.

दो महाशक्तियों में युद्ध के संकेत, US ने तैनात किए फाइटर जेट, चीन ने भी कसी कमर !

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि भारत में कोरोना वायरस संक्रमितों का आंकड़ा 50 हजार के पार पहुंच गया है. महाराष्ट्र और तमिलनाडु में विस्फोटक होती स्थिति के चलते देश में संक्रमित लोगों की संख्या 52 हजार को पार कर गई है. बुधवार को महाराष्ट्र में जहां रिकॉर्ड 1,233 नए मामले मिले हैं, वहीं तमिलनाडु में भी 771 संक्रमित पाए गए हैं. इन दोनों ही राज्यों में देश के करीब एक तिहाई से ज्यादा संक्रमित हैं. पूरे देश की बात करें तो साढ़े तीन हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं और 80 से ज्यादा मौतें हुई हैं.

बुद्ध पूर्णिमा पर पीएम का बड़ा बयान, बोले- मानवता की सेवा करने वाले नमन के पात्र

बुद्ध पूर्णिमा के शुभ अवसर पर देश को संबोधित कर रहे है पीएम मोदी

PM मोदी बुद्ध पूर्णिमा आयोजन में हुए शामिल, 9 बजे करेंगे संबोधन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -