यह गूगल डिवाइस बताएगा, कब आएगा भूकंप?

यह गूगल डिवाइस बताएगा, कब आएगा भूकंप?

दुनिया के कई देशों कि सरकारें अपने नागरिकों को भूकंप से बचने कि ट्रेनिंग देती है. लेकिन क्या हो अगर मौसम की तरह हम भूकंप का भी अनुमान पहले से ही लगा लें? अमेरिकी कंपनी गूगल और हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने मिलकर बीते दिनों ऐसे कृत्रिम बुद्धिमत्ता (ए.आई.) का प्रयोग किया जिसके द्वारा भूकंप के आने से पहले ही उसके प्रभाव के क्षेत्र का पता लगाया जा सकता है.

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की शोधकर्ता फोबे डीव्रीज का मानना है की भूकंप सदैव क्रमानुसार आते हैं. एक भूकंप के बाद और भी भूकंप आते हैं, लेकिन उन छोटे छोटे भूकम्पों की तीव्रता कम होने के कारण उन भूकम्पों को भांपना मुश्किल होता हैं. इन भूकम्पों के स्थान का पता लगाने वाली इस प्रणाली पर अभी काम चल रहा है. फोबे ने आगे बताया कि प्रायोगिक तौर पर जब इस प्रणाली का परिक्षण किया गया तब यह मशीन भूकंप का सही पूर्वानुमान लगाने में सफल हुई थी.

फोबे ने अपने एक ब्लॉग पोस्ट पर लिखा कि "हमने 118 से अधिक भूकम्पों के डाटाबेस के संग्रह पर यह शोध किया जो सफल हुआ".भूकंप के कारन होने वाले विनाश को रोका नहीं जा सकता, ना ही इस प्राकृतिक आपदा के दौरान बाढ़ कि तरह बचाव कार्य किया जा सकता है, लेकिन अगर यह यन्त्र अपने प्रयोगों में सौ प्रतिशत सफल होता है तो मानव जाति के लिए यह एक वरदान साबित होगा. भूकंप संभावित क्षेत्र से समय रहते लोगों को हटाया जा सकेगा.


यह भी पढ़ें 

पश्चिमी ईरान में 6.0 का बड़ा भूकंप, दो की मौत

इस वजह से आते है भूकंप, यह देश हैं सबसे ज्यादा पीड़ित

इंडोनेशिया में भूकंप का कहर, अब तक 555 की मौत, 1500 घायल

नहीं थम रहा इंडोनेशिया में भूकंप का सिलसिला, लाखों लोग बेघर

फिजी में महसूस हुए भूकंप के तेज झटके 

?