सोने के आयात में रिकार्ड गिरावट, जानें क्या है कारण

भारत में सबसे जयादा गोल्ड लवर्स मौजूद है, जिसकी वजह से हमेशा सोने की मांग बनी रहती है. लेकिन लॉकडाउन की वजह से सोने की रिटेल खरीदी में सुस्ती आ गई है. इस वजह से सोने के आयात में जबरदस्त गिरावट आई है. पिछले महीने यानी मार्च में देश का स्वर्ण आयात सालाना आधार पर 73 फीसद से अधिक गिर गया है. इस तरह मार्च महीने में देश का स्वर्ण आयात साढ़े छह सालों के निचले स्तर पर रहा है. देश के स्वर्ण आायत में यह गिरावट घरेलू कीमतों में रिकॉर्ड तेजी और लॉकडाउन के चलते औद्योगिक और व्यापारिक गतिविधियों के बाधित रहने के चलते आई है. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार, सोमवार को सरकारी सूत्रों द्वारा यह जानकारी दी गई है.

कोरोना संक्रमण की वजह से 25 मार्च से 21 दिनों का देशव्यापी लॉकडाउन लागू है. कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए इसकी चेन को तोड़ना जरूरी होता है. इसी उद्देश्य से राज्य और केंद्र सरकारों द्वारा लॉकडाउन लगाया गया है. लॉकडाउन के कारण सोने की रिटेल मांग पूरी तरह रुक गई है, जिसका असर स्वर्ण आयात में गिरावट के रूप में देखने को मिला है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें की भारत दुनिया का दूसरा सोने का बड़ा उपभोक्ता देश है. देश ने मार्च महीने में सिर्फ 25 टन सोने का ही आयात किया है. यह एक साल पहले की समान अवधि से 93.24 फीसद कम है. रॉयटर्स के अनुसार, यह जानकारी उन सूत्रों द्वारा बतायी गई है, जो मीडिया को जानकारी देने के लिए आधिकारिक रूप से उत्तरदायी नहीं हैं. सूत्रों के अनुसार, मार्च महीने में आयात करीब 63 फीसद गिरकर 1.22 बिलियन डॉलर पर रहा है. आपको बता दें कि लॉकडाउन के कारण इस समय देश भर में सोने के हाजिर बाजार बंद हैं. वहीं, माहावीर जयंती होने के कारण सोमवार को सोने-चांदी का वायदा बाजार भी बंद है. वैश्विक स्तर की बात करें, तो ब्लूमबर्ग के अनुसार, सोमवाह दोपहर सोने का वैश्विक हाजिर भाव 0.98 फीसद या 15.81 डॉलर की तेजी के साथ 1,636.62 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेंड कर रहा था.  

पेट्रोल, डीजल की बिक्री में आई भारी गिरावट, पहले से कम हो सकते है दाम

कोरोना के लपेटे में आए भारत के सबसे बड़े रईस मुकेश अंबानी !

कोरोना का असर, बिगड़ेगी बैंकों की वित्तीय हालत, NPA ने होगा भारी इजाफा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -