अगर मन में है नया स्मार्टफोन लेने का विचार तो, ध्यान रखे एक 'जरूरी सलाह'

अगर मन में है नया स्मार्टफोन लेने का विचार तो, ध्यान रखे एक 'जरूरी सलाह'

नया ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन खरीदने का मन अगर आप बना रहे हैं तो ऐसा डिवाइस बेहतर होगा, जिसमें लेटेस्ट स्टॉक ऐंड्रॉयड ओएस दिया गया हो. भले ही स्मार्टफोन लवर्स का कहना हो कि किसी डिवाइस को खरीदने या न खरीदने के लिए स्टॉक ऐंड्रॉयड ओएस एक जरूरी फैक्टर नहीं होना चाहिए, गूगल की सलाह इससे उलट है. लास वेगस में हाल ही में हुई Black Hat सिक्यॉरिटी कॉन्फ्रेंस में गूगल प्रॉजेक्ट जीरो के सिक्यॉरिटी रिसर्चर मैडी स्टोन ने स्टॉक ऐंड्रॉयड से जुड़ा एक बड़ा खुलासा किया. आइए जानते है पूरी जानकारी​ विस्तार से 

भारत में Realme के ये अपकमिंग स्मार्टफ़ोन 20 अगस्त को होंगे लॉन्च, मिलेगा 64MP का कैमरा

हाल ही सामने आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, सिक्यॉरिटी रिसर्चर मैडी ने खुलासा किया कि लाखों ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन्स में खतरनाक मैलवेयर प्री-इंस्टॉल्ड आता है. यह बात इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि प्रॉजेक्ट जीरो गूगल के बग हंटर्स की एक एलाइट टीम है. यहां खतरनाक यह है कि इन मैलवेयर्स को ट्रेस नहीं किया जा सकता क्योंकि रेग्युलर यूजर्स को इसके लिए अलग से कोई ऐप आइकन्स या साइन नहीं दिखते. ऐंड्रॉयड फोन मेकर्स नए डिवाइस में प्री-इंस्टॉल्ड मैलवेयर क्यों देंगे, इस बारे में भी गूगल रिसर्चर ने कॉन्फ्रेंस में बताया.मार्केट में बढ़ते कॉम्पिटीशन और बजट फोन सेगमेंट की बढ़ती रेस के चलते छोटी कंपनियों के लिए डिवाइसेज में मैलवेयर देना कमाई का एक और तरीका हो सकता है. साथ ही इस मॉडल में कंपनी कोई मैलिशस ऐप्स पब्लिश करने के बाद यूजर्स के उसका शिकार बनने के मुकाबले खुद मैलवेयर क्रिएट करती है और डिवाइस के साथ यूजर तक पहुंचाती है. इसके अलावा स्टोन ने रिपोर्ट में कहा, 'सप्लाई चेन का फायदा इस तरह होता है कि मैलवेयर बनाने वालों को केवल एक कंपनी को उनका ऐप प्री-इंस्टॉल करने के लिए राजी करना होता है और हजारों यूजर्स के ऐसा करने का इंतजार नहीं करना पड़ता.' अगर आपको लगता है कि यह प्रॉब्लम कुछ ऐंड्रॉयड फोन्स के साथ ही है, तो आप गलत हैं.

Jio GigaFibre के इस प्लान में 4K या HD टीवी के साथ 4K सेट-टॉप बॉक्स फ्री दे रही है

अपने बयान में गूगल का दावा किया है कि 200 से ज्यादा ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन ब्रैंड्स ने मैलवेयर को अपने सिस्टम में प्री-इंस्टॉल करने की अनुमति दी है और इससे डिवाइसेज की रिमोट हैकिंग भी संभव है. स्टोन ने दावा किया कि 100 से 400 ऐप्स ऐंड्रॉयड फोन्स में प्री-इंस्टॉल्ड आते हैं, इनमें से कुछ दिखते हैं तो वहीं कुछ नहीं दिखते. स्टोन ने खुलासा किया कि सबसे कॉमन मैलवेयर अटैक्स Chamois और Triada हैं. इनमें से Chamois फोन से मेसेज भेजकर कमाई करता है और Triada बैकंग्राउंड में कोई ऐप इंस्टॉल करने का ऑप्शन देता है. ऐसे में गूगल का स्टॉक ऐंड्रॉयड सबसे सुरक्षित है.

LG G8X स्मार्टफोन IFA 2019 में होगा लॉन्च, ये है अन्य खासियत

Reliance Jio के इस लेटेस्ट पोस्टपेड प्लान में मिलेगा अनलिमिटेड फ्री-कॉलिंग

इस सेल में Xiaomi के स्मार्टफोन्स पर मिल रहा 7500 रु का बम्पर डिस्काउंट