इच्छा शक्ति की देवी है सत्यभामा

आंध्र प्रदेश में पुट्टपर्थी में, जहां पर कई प्रसिद्ध मंदिर हैं, वहां देवी सत्यभामा का भी एक मंदिर है. कहा जाता है कि यह देवी सत्यभामा का एकमात्र मंदिर प्रसिद्ध होने के साथ-साथ खास भी है, क्योंकि इस मंदिर की स्थापना और किसी ने नहीं बल्कि साईं बाबा के दादाजी ने की थी. कहा जाता है कि एक बार साईं बाबा के दादाजी को सपने में देवी सत्यभामा ने दर्शन दिए थे. दर्शन देकर देवी सत्यभामा ने उन्हें अपना मंदिर बनाने का आदेश दिया. देवी सत्यभामा के कहने पर साईं बाबा के दादाजी ने उनके इस मंदिर का निर्माण करवाया. 

सत्यभामा मंदिर जाने के लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर में होता है. पुराणों में दिए गए वर्णन के अनुसार, देवी सत्यभामा को इच्छाशक्ति की देवी माना जाता है. अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए और भगवान कृष्ण को प्रसन्न करने के लिए हर साल यहां कई भक्त आते हैं. मंदिर में देवी सत्यभामा की लगभग 3 फीट ऊंची एक मूर्ति है. इसके अलावा मंदिर के गर्भगृह में देवी सत्यभामा की मूर्ति के आस-पास भगवान कृष्ण की कई तस्वीरें लगी हुई है.बर से मार्च के बीच का माना जाता है.

शिवजी स्वयं निवास करते है यहाँ

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -