थाने में लड़की ने लगाई फांसी, परिजनों ने आग के हवाले की पुलिस जीप

उत्तर प्रदेश/सीतापुर : सीतापुर के महमूदाबाद पुलिस स्टेशन के अंदर सोमवार को एक लड़की ने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली। जीनत नाम की 19 वर्षीय लड़की के घरवालों ने पुलिस पर बलात्कार और हत्या का आरोप लगाया है। वहीं, दूसरी तरफ पुलिस ने इस मामले को आत्महत्या करार दिया है। लड़की रविवार शाम घर से गायब हो गई थी। बेटी का शव मिलने के बाद परिजनों ने थाने में जमकर तोड़फोड़ की और पुलिस की एक जीप को आग के हवाले कर दिया। हालात काबू पाने के लिए पुलिस ने भी आंसूगैस के गोले छोड़े। इससे भीड़ और भी आक्रोशित हो गई और पुलिसवालों पर पथराव करने लगी। घटना में डीईजी, एसपी सहित कई लोग घायल हुए हैं। भीड़ को खदेड़ने के लिए पुलिस ने हवा फायरिंग का भी सहारा लिया। घटना के बाद से ही इलाके में तनाव का माहोल बना हुआ है।

सूत्रों के अनुसार, रविवार शाम जीनत का अपने भाई से किसी बात को लेकर विवाद हुआ। इसके बाद वह घर छोड़कर चली गई। सोमवार सुबह फॉरेस्ट डिपार्टमेंट के एक गार्ड ने जीनत को नहर में छलांग लगाते देखा। गार्ड ने उसे रोका और पुलिस स्टेशन ले आया। पुलिस स्टेशन में जीनत की निगरानी के लिए कॉन्स्टेबल को तैनात किया गया था।

इस दौरान जीनत बाथरूम के बहाने गई और काफी देर तक बाहर नहीं आई। कॉन्स्टेबल ने जीनत को कई बार आवाज लगाई। लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। कॉन्स्टेबल ने इस बात की जानकारी अफसरों को दी। कुछ देर बाद बाथरूम दरवाजा तोड़ा गया तो लड़की की लाश मिली। उसके गले में उसके ही दुपट्टे से बना फंदा लगा हुआ था।

लखनऊ रेंज के डीआईजी ज़की अहमद का कहना है की यह गंभीर केस है और इसकी जांच की जा रही है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा। जबकि स्थानीय पुलिस का कहना है कि लड़की ने पहले भी आत्महत्या के प्रयास किये थे।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -