उपराज्यपाल मुर्मू बोले, मजदूरों की ऐसे हो कोरोना जांच

लॉकडाउन के चौथे चरण के बीच केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू ने जम्मू संभाग के ऊधमपुर जिले का दौरा किया. उनके साथ उनकी पत्नी डॉ. समिता मुर्मू भी थीं. उपराज्यपाल ने रेलवे स्टेशन पर रेल से राज्य में वापसी कर रहे लोगों की वापसी के लिए किए गए प्रबंधों का जायजा लिया. वही, अन्य राज्यों से घर वापसी की व्यवस्था के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए कमिश्नर सेक्रेटरी मनोज कुमार द्विवेदी ने दौरे पर आए उपराज्यपाल को बताया कि ऊधमपुर में अन्य राज्यों से करीब 60 हजार श्रमिक व अन्य लोग श्रमिक एक्सप्रेस रेलगाडि़यों से राज्य में वापसी करेंगे. हर रेलगाड़ी से औसतन एक हजार श्रमिक व लोग लौट रहे हैं.

सीरिया में समाप्त हो सकती है अशांति, इस बात पर बनी सहमति

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इस मौके पर ऊधमपुर के डीसी डॉ. पियूष सिंगला ने उपराज्यपाल को बताया कि रेलगाड़ी से आने वाले लोगों का ट्रांजिट मैनेजमेंट इंफार्मेशन एप के माध्यम से रेल से उतरते ही ऑनलाइन पंजीकरण किया जाता है. इसके बाद रियल टाइम मिलने वाले डाटा के आधार पर विभिन्न जिलों के लोगों को बसों के माध्यम से रवाना किया जाता है. रवाना होने से पहले उनको खाने के पैकेट और पानी भी दिया जाता है.

योगी सरकार को प्रियंका ने फिर लिखी चिट्ठी, कहा- आगरा में नहीं दे रहे बसों को एंट्री

इसके अलावा रेलवे स्टेशन पर आने वाले लोगों के लिए की गई तैयारियों व अपनाई जा रही प्रक्रिया का जायजा लेने के दौरान उपराज्यपाल ने अपनाए जा रहे निर्धारित स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) पर संतोष जताया. इसके साथ ही उन्होंने कोरोना पॉजिटिव मरीजों का पता लगाने के लिए आने वाले यात्रियों का थर्मल स्क्रीनिंग करने पर जोर दिया. इसके साथ ही पीपीई किट्स के निर्धारित प्रोटोकाल के मुताबिक उचित निस्तारण करने का महत्व भी बताया.

यूपी की 'बस पॉलिटिक्स' में कूदे अखिलेश, कहा- पहले अपना फिटनेस सर्टिफिकेट दे भाजपा सरकार

कांग्रेस ने दी बसों की गलत जानकारी, धोखाधड़ी के आरोप में प्रदेश पार्टी अध्यक्ष अजय लल्लू गिरफ्तार

ईस्ट अरोरा में पटरी से उतरी ट्रेन, दुर्घटना का कारण जानने में जुटी टीम

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -