GHMC अधिकारी का बड़ा बयान, कहा- "पोलियों बूथ में 24 घंटे से काम रहे 3 सफाईकर्मी..."

हैदराबाद: हुसैनसागर झील से मूर्तियों और मलबे को हटाने का काम हैदराबाद महानगर विकास प्राधिकरण (HMDA) द्वारा GHMC स्वच्छता कार्यकर्ताओं के समन्वय से किया जा रहा है। जीएचएमसी की स्वच्छता शाखा ने रविवार को शहर के विभिन्न गणेश पंडालों में मूर्तियों और पूजा सामग्री से भरे कृत्रिम तालाबों की सफाई शुरू कर दी। जीएचएमसी अधिकारियों के अनुसार, तालाबों से मूर्तियों को उठाने और सड़कों/सड़कों पर बिखरी पूजा सामग्री को साफ करने के लिए सफाईकर्मी तीन पालियों में चौबीसों घंटे काम कर रहे थे।

10 फीट से बड़ी मूर्तियों को टैंक बांध में विसर्जित किया गया, जबकि छोटी मूर्तियों को झील के आसपास अन्य बिंदुओं पर ले जाया गया। मूर्तियों को दिन के दौरान शहर भर में स्थापित विभिन्न कृत्रिम तालाबों जैसे कपरा चेरु, मलकम चेरु, आईडीएल टैंक, हसमतपेट झील, सफिलगुडा चेरुवु में विसर्जित किया गया। 28 कृत्रिम तालाबों में लगभग 1,667 श्रमिकों को मलबा साफ करने, पूजा सामग्री और विसर्जन के बाद गणेश प्रतिमाओं को बाहर निकालने के लिए तैनात किया गया था। जीएचएमसी ने डिस्चार्ज के बाद के कचरे को हटाने के लिए 20 एक्सकेवेटर, 21 अर्थ मूवर्स, 29 मिनी-टिपर और 10 टन की क्षमता वाले 44 वाहनों को सेवा में रखा है।

रविवार को नगर निगम ने श्रद्धालुओं को नि:शुल्क मास्क बांटे। इसने उनसे कोविड के मद्देनजर सभी सावधानियां बरतने की अपील की। हैदराबाद मेट्रोपॉलिटन वाटर सप्लाई एंड सीवरेज बोर्ड (HMWSSB) ने भक्तों को मुफ्त पानी के पैकेट उपलब्ध कराने के लिए जुलूस मार्गों सहित 101 स्थानों की स्थापना की। अधिकारियों ने किसी भी आपात स्थिति में मदद के लिए हुसैनसागर में विशेषज्ञ तैराकों के साथ नावें तैनात कीं।

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने टीकाकरण अभियान पर 'निराधार आरोप' को लेकर विपक्ष पर साधा निशाना

जगन रेड्डी के नेतृत्व वाली वाईएसआर कांग्रेस पार्टी ने आंध्र प्रदेश में शानदार जीत दर्ज की

मूसलाधार बारिश से बेहाल हुए बंगाल के हाल, अगले 24 घंटों तक जारी किया गया भारी बारिश का अलर्ट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -