शिवराज के राज में पुलिस ने जर्मन महिला के साथ किया दुर्व्यवहार

Sep 15 2015 09:48 AM
शिवराज के राज में पुलिस ने जर्मन महिला के साथ किया दुर्व्यवहार

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में पिछले डेढ़ साल से रह रही जर्मनी की एक महिला से दो पुलिस वालों के बदसलूकी करने की घटना सामने आई है. इतना ही नहीं उस महिला को रविवार देर रात 3.00 बजे तक पुलिस चौकी में बैठाए रखा. महिला ने इस मामले की शिकायत एसपी अंशुमान सिंह और जर्मन दूतावास में की है. यह घटना रविवार रात 12:30 बजे की है. किम नाम की यह जर्मन महिला भोपाल के रहने वाले मंगेतर के साथ इंटरनेट पैक रिचार्ज कराने के लिए पास ही में नादरा बस स्टैंड गई थी. वहां एक सब इंस्पेक्टर और कांस्टेबल ने पूछताछ के उस जर्मन महिला और उसके मंगेतर दोनों को चौकी में बैठा लिया. लगभग तीन घंटे तक पुलिस वाले महिला पर उलटे सीधे कमेंट करते रहे. वही महिला के साथ आए उस लड़के से उन्होंने कहा-‘'हमारे लिए भी एक ऐसी ही दोस्त का इंतजाम कर दो.

जब डरी-सहमी महिला घर तक पहुंची और रात भर सो न सकी. सुबह उठते ही उस जर्मन महिला ने सीनियर अफसरों से पूरे मामले की शिकायत की. पुलिस इस मामले में सब इंस्पेक्टर के शामिल हाेने की बात कर रही है. हालांकि, हनुमानगंज थाना क्षेत्र के टीआई ने खुद इस मामले में माफी मांगी. किम अपनी बहन सिलवाना के साथ भारत आई थी. उन्होंने यहां बताया दोनों बहनें नित्य सेवा सोसायटी में रहकर अनाथ बच्चों के लिए खाना बनाने का काम करती थीं. कुछ दिनों पहले ही दोनों ने एक अन्य अभियान में जुड़ने के उद्देश्य से एयरपोर्ट रोड के पास एक मकान में रहना शुरू किया है. किम ने बताया रविवार रात जब वह अपने मंगेतर सिद्धेश दुबे के साथ बस स्टैंड पर रिचार्ज करने पहुंची तो वहां मौजूद सब इंस्पेक्टर एके त्रिपाठी और एक कांस्टेबल ने हम दोनों को चौकी पर बैठा लिया.

और पूछताछ के नाम पर दोनों ने बहुत ही अश्लील शब्द और कमेंट किए. उसने कहा कि मैं हिंदी समझती हूं. पुलिसवालों की गंदी बातो के कारण मुझे सिर झुकाकर बैठना पड़ा. उन्होंने आगे कहा की पुलिसकर्मियों ने एक घंटे की पूछताछ के बाद हमारे आईडी प्रूफ अपने पास रख लिए. करीब तीन बजे उन्होंने हमें छोड़ दिया. सिद्धेश को दोबारा चौकी बुलाकर बहन सिलवाना के आईडी प्रूफ भी उन्होंने जब्त कर लिए. किम का कहना है कि वह जल्द ही भारत छोड़ने का विचार कर रही है पुलिस सुप्रिटेंडेंट अंशुमान सिंह ने घटना को गलत बताया है. ऐसी घटना आगे न हो, इसके लिए आरोपी पुलिस वालों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी. जांच के आदेश दे दिए गए हैं. वही हनुमानगंज थाना इंचार्ज बृजेंद्र ने महिला से माफी मांग ली है. आरोपी पुलिस अधिकारी के खिलाफ जांच शुरू कर दी है.