AMU के 18 प्रोफेसर समेत 40 कर्मचारियों की कोरोना से गई जान तो बोले गेहलोत- "ये नया वैरिएंट तो नहीं..."

AMU के 18 प्रोफेसर समेत 40 कर्मचारियों की कोरोना से गई जान तो बोले गेहलोत-

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में कोविड का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। वहां बीते 22 दिनों में स्टाफ के 40 लोगों की कोविड से जान जा चुकी है। जिनमें 18 मौजूदा प्रोफेसर भी शामिल हैं। अभी भी कई प्रोफेसर और स्टाफ में ऐसे लोग हैं, जो कोविड संक्रमित हैं और कोई घर पर ही रहकर तो कोई हॉस्पिटल में उपचार करवा रहा है।

इस दौरान कोविड के नए वैरिएंट को लेकर भी आशंका जताई जाने लगी है। राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत का बोलना है कि ये जांच की जानी चाहिए कि कहीं ये कोरोना का नया वैरिएंट तो नहीं है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, "ये बहुत दुखद और चिंताजनक है कि पिछले 20 दिनों में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के 18 सेवारत प्रोफेसर्स का कोरोना से देहांत हो चुका है। जिसकी जांच होनी चाहिए कि ये कोविड का कोई नया वैरिएंट तो नहीं है। बने हुए हालातों में कोविड से सम्बंधित हर पहलु को गंभीरता से लेना अत्यावश्यक है।"

वहीं, AMU से जुड़े इतने लोगों की मौत के उपरांत प्रशासन न तो कुछ बोलने को तैयार है और न ही सही आंकड़ा देने को तैयार है। इस केस पर जब अलीगढ़ के CMO डॉ। भानुप्रताप कल्याणी से बात की तो उन्होंने कहा है कि हालांकि सही आंकड़ा तो मेडिकल कॉलेज के लोग ही बता पाएंगे लेकिन समाचार पत्रों से और जो ग्रुप से पता चला है कि मेडिकल कॉलेज में बहुत  प्रोफेसर और कर्मचारियों की जान जा चुकी है। उसकी वजह तो ये वायरस ही है क्योंकि उसकी इंफेक्शन या बीमारी बढ़ाने की क्षमता ज्यादा है। पिछले साल इसकी क्षमता ज्यादा नहीं थी लेकिन इस बार उसकी क्षमता ज्यादा है। इसलिए डेथ या कैजुअलिटी का आंकड़ा बढ़ा है।

गाँव में कोरोना से लड़ने के लिए योगी सरकार ने बनाई 1,41,610 टीमें, WHO भी हुआ कायल

कोरोना काल के बीच आज से 27 हज़ार स्वास्थ्यकर्मियों की हड़ताल, मरीजों का हाल बेहाल

'कोरोना काल में आप फ्रंटलाइन पर क्यों नहीं ?', ट्रोलर को कुमार विश्वास ने दिया करारा जवाब