8 फरवरी को है गौरी तृतीया व्रत, ऐसे करें पूजन

Feb 07 2019 06:20 PM
8 फरवरी को है गौरी तृतीया व्रत, ऐसे करें पूजन

आप सभी को बता दें कि माघ मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को गौरी तृतीया व्रत किया जाता है. ऐसे में इस साल यह व्रत 8 फरवरी को मनाया जाने वाला है. शुक्ल पक्ष को किया जाने वाला यह व्रत भगवान शंकर और मां गौरी की कृपा पाने के लिए किया जाता है और इस व्रत के प्रभाव से विभिन्न कष्टों से मुक्ति मिलती है और जीवन में सफलता प्राप्त होती है. ऐसे में गौरी तृतीया की पूजा कैसे करनी है यह आज हम आपको बताने जा रहे हैं.

गौरी तृतीया पूजा विधि - इसके लिए सुबह जल्दी उठकर नहा लें. अब देवी सती के साथ-साथ भगवान शंकर का पूजन करें और पंचगव्य तथा चंदन निर्मित जल से देवी सती और भगवान शिव की प्रतिमा को स्नान करें. अब धूप, दीप, नैवेद्य तथा नाना प्रकार के फल अर्पित कर पूजा करें और इस दिन इन व्रत का संकल्प सहित प्रारम्भ करें. इसके बाद पूजन में श्री गणेश पर जल, रोली, मौली, चन्दन, सिन्दूर, लौंग, पान, चावल, सुपारी, फूल, इलायची, बेलपत्र, फल, मेवा और दक्षिणा चढा दें और गौरी की प्रतिमा को जल, दूध, दही से स्नान करा, वस्त्र आदि पहनाकर रोली, चन्दन, सिन्दुर, मेंहन्दी लगा दें.

अब श्रंगार की वस्तुओं से माता को सजा दें और शिव-पार्वती की मूर्तियों का विधिवत पूजन करके गौरी तृतीया की कथा सुनी जाती है तथा गौरी माता को सुहाग की सामग्री अर्पण कि जाती है. इसी के साथ पार्वती का पूजन एवं व्रत रखने से सुख बढ़ने लगते हैं. वहीं विधिपूर्वक अनुष्ठान करके भक्ति के साथ पूजन करके व्रत की समाप्ति के समय दान कर सकते हैं. कहते हैं इस व्रत का जो स्त्री करती है उसकी कामनाएं पूर्ण हो जाती है.

इन राशियों के लिए खतरें से खाली नहीं है आज का दिन

छप्पर फाड़कर बरसने लगेगा पैसा अगर भगवान हनुमान को रात में चढ़ा दी यह चीज़

गुप्त नवरात्रि की इस रात को करें श्रीरुद्रयामल के गौरीतंत्र जाप, खुल जाएगी किस्मत