गुवाहाटी हाई कोर्ट ने अखिल गोगोई को दी जमानत

असम के गौहाटी उच्च न्यायालय ने विशेष राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) अदालत के आदेश को बरकरार रखा और असम में नागरिक विरोधी 2019 में संशोधन अधिनियम (CAA) आंदोलन के दौरान हिंसा भड़काने से संबंधित एक केस में कृषकों के नेता अखिल गोगोई को जमानत दी जा चुकी है। जस्टिस सुमन श्याम और मीर अल्फ़ाज़ अली की खंडपीठ ने NIA द्वारा दायर एक अपील का निपटारा किया जाने वाला है।

जंहा इस बात का पता चला है कि गोगोई को जमानत देने के विशेष अदालत के आदेश को चुनौती दी गई। एचसी पीठ ने बोला कि केवल नागरिक अशांति पैदा करने के इरादे से, बिना 'आतंकवादी अधिनियम' 'UAPA अधिनियम की धारा 2 (1) (ओ) के अंतर्गत गैरकानूनी गतिविधि के दायरे में नहीं आने वाला है। बीते वर्ष अक्टूबर में गुवाहाटी की एक NIA विशेष अदालत ने डिब्रूगढ़ जिले के चौबुआ पुलिस स्टेशन में शुरू में दर्ज केस के सिलसिले में गोगोई को जमानत दी थी।

मिली जानकारी के अनुसार उच्च न्यायालय ने स्पष्ट किया कि गैरकानूनी असेंबलियों (रोकथाम) अधिनियम 1967 के तहत दंडनीय अपराधों को आकर्षित करना, इस अधिनियम की शिकायत की जानी चाहिए एक "आतंकवादी अधिनियम", जो भारत की अखंडता, संप्रभुता, आदि को खतरे में डालने के इरादे से प्रतिबद्ध थे। गोगोई के वकील संतनु बोर्थाकुर ने बोला कि राज्य की प्रार्थना को खारिज करने वाले उच्च न्यायालय ने गोगोई को जमानत देने के निचली अदालत के आदेश को बरकरार रखा गया है।

भाजपा नेताओं को अंतिम चेतावनी देते हुए केटी रामाराव ने कह डाली ये बात

क्या रद्द हो जाएंगे CBSE की बोर्ड परीक्षाएं ? केजरीवाल बोले- मौजूदा हालात में यही बेहतर फैसला

सोशल मीडिया का उपयोग करते हुए एक नाइजीरियाई ने दिया लोगों को धोखा, इस तरह हुआ पर्दाफाश

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -