पाकिस्तान के 100 किलोमीटर पर तबाही मचाएगी गरूड़ की चाल

Aug 21 2016 11:57 AM
पाकिस्तान के 100 किलोमीटर पर तबाही मचाएगी गरूड़ की चाल

जोधपुर : पोकरण में परमाणु परीक्षण की सफलता के वर्षों बाद भारत ने एक और सफलता अर्जित की है। दरअसल अब तो भारत के केवल बम की ही जद में पाकिस्तान का 100 किलोमीटर का क्षेत्र आ गया हैं जी हां, भारत ने डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट आॅर्गनाइजेशन के माध्यम से विकसित किए गए गुरूड़ और गरूथमा नामक ग्लाइड बमों का परीक्षण किया। इन बमों को भारतीय वायु सेना में शामिल कर लिया जाएगा।

दरअसल पाकिस्तान का 100 किलोमीटर का क्षेत्र इन बमों की जद में होगा। दरअसल इन बमों को पुणे, हैदराबाद की लैब में तैयार कर दिया गया है। बीते वर्ष इसका परभ्खण उड़ीसा के चांदीपुर फायरिंग रेंज में ही कर लिया गया था मगर एक बार फिर इसका परीक्षण पोखरण में कर लिया गया। दरअसल करीब 1 हजार किलो भार वाले गरूथमा बम को जब छोड़ा गया तो वह 100 किलोमीटर दूर मौजूद टारगेट पर निशाना सधा।

दूसरी ओर ग्लाईडर श्रेणी के दूसरे बम गरूड़ ने 30 किलोमीटर के टारगेट पर निशाना साधा। हालांकि भारत को ग्लाईडर श्रेणी के बम में पाकिस्तान व चीन से पीछे माना जा रहा है। चाइना के जीबी 6 ग्लाइड बम की रेंज 130 किलोमीटर है। दरअसल यह बम वह बम है जिसमें कोई मोटर नहीं होती है।

इसे कंट्रोलर के माध्यम से कंट्रोल रूम, हवाई जहाज या फिर अंतरिक्ष में उड़ने वाले सैटेलाईट से नियंत्रित किया जा सकता है। इसे मिसाईल की तरह डाटा डालकर टारगेट पर चलाया जा सकता है। दरअसल कई बार लड़ाकू विमान टारगेट के उपर से उड़ान भरते हैं और इन बमों से टारगेट को नष्ट कर देते हैं।