जम्मू कश्मीर: हिंसा फैलाने वाले आतंकी संगठन आपस में ही भिड़े, 3 शव बरामद

Sep 16 2015 07:47 PM
जम्मू कश्मीर: हिंसा फैलाने वाले आतंकी संगठन आपस में ही भिड़े, 3 शव बरामद

श्रीनगर : अब जम्मू कश्मीर में भी आतंकियों के समूहों में हिंसा तेजी से बड़ रही है सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस ने हिज्बुल मुजाहिदीन और इससे अलग होकर बने आतंकी संगठन लश्कर-ए-इस्लाम के तीन आतंकियों के शव सोमवार को सोपोर जिले में पाटन के जंगल से बरामद किये है. माना जा रहा है की इनका हिज्बुल मुजाहिदीन ने ही ख़ात्मा किया है. गौरतलब है की पूर्व में सैयद अली शाह गिलानी जो की कश्मीर के अलगाववादी नेता है उन्होंने हिज्बुल चीफ सैयद सलाउद्दीन से कहा था की पता लगाए की सोपोर में मोबाइल टावर्स और ऑपरेटर्स पर कौन हमले कर रहा है. तथा इसकी जवाबदेही हिज्बुल से अलग हुए गुट लश्कर-ए-इस्लाम के नेता कय्यूम नजर ने मोबाइल टावर्स और ऑपरेटर्स पर हमलों की जिम्मेदारी ली. कय्यूम का कहना था की हमने यह हमले इसलिए किए, ताकि हम कश्मीर में अपनी पहचान बना सके। 

कय्यूम ने हिज्बुल चीफ सैयद सलाउद्दीन को अपना नेता मानने से इनकार कर दिया था। ये तीनों जुलाई महीने से लापता थे। लाशों पर टॉर्चर के निशान मिलने से साफ है कि लश्कर बागियों के खिलाफ कोई रहम नहीं कर रहा है। व खबर थी की कय्यूम पेसो के बल पर कई आतंकियों को अपने साथ मिलाने की कोशिश कर रहा था, जो लाशे बरामद हुई है उसमे से एक की पहचान नही हो पाई है व दो की पहचान रेशी और वाणी के तौर पर हुई है. व इन आतंकवादी संगठनो के गुटों में फुट से फायदा वहां के सिक्युरिटी फोर्सेस को हो रहा है. क्योंकि एक गैंग दूसरे गैंग की महत्वपूर्ण जानकारी लीक कर देता है। व इससे फोर्सेस को इन आतंकियों को मार गिराने में कामयाबी मिल जाती है.