गंगा दशहरा : आज कर लें यह एक उपाय सफल हो जाएगा जीवन

Jun 12 2019 02:40 PM
गंगा दशहरा : आज कर लें यह एक उपाय सफल हो जाएगा जीवन

आप सभी को बता दें कि आज के दिन श्री गंगा दशहरा है और हर बार यह ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाते हैं. ऐसे में कहा जाता है आज ही के दिन गंगाजी पृथ्वी पर अवतरित हुई थीं और राजा भागीरथ की कठिन तपस्या के कारण ही पृथ्वी पर गंगा मैय्या का आगमन संभव हो पाया था. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि आज के दिन आप कौन-कौन से उपाय कर सकते हैं. आइए जानते हैं. 

उपाय -

*कहते हैं अगर किसी को अपने काम से संतुष्टि प्राप्त नहीं होती है तो उनको आज के दिन मिट्टी से बना एक मटका लेकर, उसमें गले तक पानी भरना चाहिए, साथ ही उसमें गंगाजल की कुछ बूंदे भी डालनी चाहिए। इसके बाद उस  मटके पर ढक्कन लगाकर, उस पर श्रद्धानुसार कुछ दक्षिणा रखनी चाहिए और उसे किसी शिव मन्दिर में दान करना चाहिए। ऐसा करने से सारी उलझनें दूर हो जाती है.

* अगर किसी को लंबी आयु के साथ ही अच्छा स्वास्थ्य चाहिए तो आज के दिन आपको गंगा दशहरा स्तोत्र में दी इन पंक्तियों का पांच बार पाठ करना चाहिए. पंक्तियां कुछ इस प्रकार हैं -
संसार विष नाशिन्यै, जीवनायै नमोऽस्तु ते।
ताप त्रय संहन्त्र्यै, प्राणेश्यै ते नमो नमः॥ कहते हैं आज के दिन इन पंक्तियों का पाठ करने के साथ ही शिव जी को सफेद पुष्प भी अर्पित करना चाहिए. 

* कहते हैं अगर आपकी कोई ऐसी इच्छा है, जो बहुत दिनों से किसी कारणवश पूरी नहीं हो पा रही है, तो आज के दिन आपको गंगा मैय्या का ध्यान करते हुए इस पंक्ति का 11 बार पाठ करना चाहिए -
शान्तायै च वरिष्ठायै वरदायै नमो नमः॥ और इसी के साथ शिवलिंग पर दूध भी अर्पित करें इससे लाभ होगा.

* अगर आप अपने जीवन को समृद्ध बनाना चाहते हैं और अपने दोस्तों के साथ संबंधों को मजबूत करना चाहते हैं, तो आज के दिन आपको गंगा मैय्या के निमित्त इन पंक्तियों का करना चाहिए। पंक्तियां इस प्रकार हैं -  
बृहत्यै ते नमस्तेSस्तु लोकधात्र्यै नमोSस्तु ते।
नमस्ते विश्व मित्रायै नन्दिन्यै ते नमो नमः॥ ध्यान रहे आज के दिन इन पंक्तियों का 11 बार पाठ करने के साथ ही आपको शिवलिंग पर धतूरा अर्पित करें लाभ होगा.

कुछ ही समय में लाखों कमा लेते हैं जिनके हाथों में होता है यह निशान

धूमावती जयंती के दिन करें इस मंत्र का जाप, हर काम होंगे सफल

शिव का आशीर्वाद पाने के लिए आज ही ऐसे धारण करें एकमुखी रूद्राक्ष