गणेश जी की प्रिय चीज है 'सुपारी', इसके उपाय से खुल जाएगी आपकी किस्मत

Sep 12 2018 09:54 AM
गणेश जी की प्रिय चीज है 'सुपारी', इसके उपाय से खुल जाएगी आपकी किस्मत

गणेश चतुर्थी में एक दिन शेष है। देशभर में गणेश जी के आगमन को लेकर जोरोशोरो से तैयारियां शुरू हो चुकी है। यह पर्व पूरे देश में 10 दिन तक मनाया जाता है। रोज उनकी पूजा आरती कर मोदक का भोग लगाया जाता है लेकिन आपको बता दें कि गणेश जी की एक और प्रिय चीज है वह है 'सुपारी'। जी हां, शास्त्रों के अनुसार गणेश जी को सुपारी भी चढ़ाई जाती है। ऐसा भी कहा जाता है कि उनकी प्रतिमा की जगह आप सुपारी भी रख सकते है। इसके उपाय से लोगों की जिंदगी भी बदल जाती है। तो जानते क्या होता है सुपारी का भोग लगाने से -

अगर आप धन की कमी से जूझ रहे है तो आप गणेश चतुर्थी के दिन पूजा के ​समय लाल कपड़े में एक श्रीयंत्र रखें और उसके बीच में एक सुपारी रखें। इससे गणेश जी भी खुश होगे और धन भी आने लगेगा। चतुर्थी के बाद में इस कपड़े को अपनी तिजोरी में रख लेें। 

मेरे लाडले मेरे गणपति प्यारे

जहां पर गणेश जी की स्थापना की गई है वहां पर एक पीले कपड़े में एक सुपारी पर कुमकुम लगा कर रखें। अब गणपति का ध्यान करें। इसके बाद इस पर थोड़े चावल छिड़के। इसके बाद कपड़े को लपेटकर अपनी तिजोरी या रुपए-पैसों की जगह रख दें। इससे धन की वृद्धि होगी कर्ज चुकाने में भी मदद मिलेगी| 

देश का एकमात्र मंदिर जहाँ इंसान रूपी चेहरे में विराजित हैं श्री गणेश

अगर आप नौकरी के लिए दरदर भटक रहे है तो आप चतुर्थी के दिन एक पीले कपड़े में सुपारी पर कुमकुम लगा कर रखें। इसके बाद में 10 मिनिट तक गणेश जी का ध्यान करें। अंतत: इस कपड़ें को उस रूम में रखें जहां बैठकर आप पढ़ाई करते है। आपको जल्द ही लाभ मिलेगा।  

हर दिन घर के कलह से परेशान है तो चतुर्थी के दिन पूजा के स्थान पर एक सुपारी रखें और एक तांबे के लौटे में गंगाजल भरकर रख दें। ऐसा करने से घर में सकारात्मक ऊर्जा आएगी। इसके बाद में क्लेश भी नहीं होगा और सुख समृद्धि की प्राप्ति होगी। इतना ही नहीं अगर आपको किसी कार्य में सफलता नहीं मिल रही है तो गणेशजी के चरणों में सुपारी रखें और रोज उसका धूप — दीप करें। इसके बाद में 108 बार लक्ष्मी जी के कोई से भी म़ंत्र का जाप करें। इससे आपकी किस्मत खुल जाएगी। 

यह भी पढ़ें

बुद्धि के देवता माने जाने वाले

गणनायकाय गणदेवताय गणाध्यक्षाय धीमहि

गणपती बाप्पा मोरया, मंगलमुर्ती मोरया

 

?