महाभारत की लड़ाई के लिए यह शख्स था जिम्मेदार

टीवी पर जब से 'महाभारत' शुरू हुई है तब से इसे दर्शकों का खूब प्यार मिल रहा है. यही कारण है कि दूरदर्शन के बाद अब इसे कलर्स चैनल पर दिखाया जा रहा है.इसके साथ ही  कलर्स चैनल पर भी इसे दर्शक बहुत पसंद कर रहे हैं और अब ये स्टार भारत पर भी शुरू हो गई है. इसके साथ ही महाभारत की उस विनाशक लड़ाई के लिए ज्यादातर लोग दुर्योधन और शकुनी को जिम्मेदार मानते हैं, परन्तु ऐसे लोगों की संख्या भी कम नहीं है जो महाभारत के उस युद्ध के लिए धृतराष्ट्र, गांधारी, द्रौपदी, युधिष्ठिर तक को जिम्मेदार मानते हैं. एक मिडिया रिपोर्टर  ने जाना कि खुद महाभारत के किरदार प्ले करने वाले एक्टर्स इसके बारे में क्या सोचते हैं?

इसके साथ ही गजेन्द्र चौहन (युधिष्ठिर) – मेरे हिसाब से महाभारत की लड़ाई के लिए दुर्योंधन नहीं बल्कि अहंकार जिम्मेदार है. चाहे वो धृतराष्ट्र, शकुनी हो या फिर युधिष्ठिर ही क्यों ना हो. आप देखें तो युधिष्ठिर ने युद्ध क्यों किया? युधिष्ठिर ने युद्ध इसलिए किया क्योंकि वो अपने साथ हो रही नाइंसाफी को बर्दाश्त नहीं करना चाहता था तो इसमें कहीं ना कहीं अहंकार की बू आती है. वहीं बकौल गजेंद्र- यदि आप सब कुछ छोड़ देते हैं तो रामायण हो जाती है और अगर आप अपने हक के लिए आवाज उठाते हैं तो महाभारत हो जाती है. वहीं आप देखिए आजकल घर-घर में महाभारत क्यों हो रही है क्योंकि लोग अपना हक नहीं छोड़ना चाहते हैं और इस हक की लड़ाई के पीछे कहीं ना कहीं आपका अहंकार भी होता है, तो अहंकार भी कम या ज्यादा होता. जैसे आप कोई कलर देखें तो उस कलर की भी की कई सारे शेड्स होते हैं और इसी तरह से किसी में कम अहंकार होता है और किसी में ज्यादा और इसी अहंकार की वजह से महाभारत का युद्ध हुआ.

फिरोज खान (अर्जुन)- देखिए अगर बात हम जिम्मेदारी की करें तो महाभारत का हर पात्र इस लड़ाई के लिए जिम्मेदार है और इसलिए हम किसी एक को महाभारत की लड़ाई का जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते हैं. वहीं ये वेद व्यास ही जानते होंगे कि इसका असली जिम्मेदार कौन था, ये हक की लड़ाई थी, ये धर्म और अधर्म की लड़ाई थी इसलिए ये प्रश्न ही अपने आप में बहुत जटिल है.अगर आप गौर करें तो देखेंगे कि इस कहानी में कितनी सारे ऐंग्ल्स हैं. वहीं तो इसलिए अगर आप दुर्योधन के दृष्टिकोण से देखें तो वो भी अपने जगह सही है.इसके साथ ही  क्योंकि वो अपने पिता का बड़ा बेटा था तो इस हिसाब से उसे ही राजा होना चाहिए और दूसरी तरफ अगर आप युधिष्ठिर का दृष्टिकोण देखें तो वो राजा पांडू के बड़े बेटे थे और सभी भाइयों में सबसे बड़े थे तो उन्हें राजा बनना चाहिए था.

ईद में शिवांगी जोशी का लुक करेगा आपकी मदद

शोएब इब्राहिम और मोहसिन खान की तरह ईद पर पहनिए सिंपल कुर्ता

गांव में 3 महीने रहने के बाद अपने घर लौटी रतन राजपूत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -