दो राजधानियों वाला पांचवा राज्य बना उत्तराखंड, गैरसैंण बनी स्थायी राजधानी

Mar 05 2020 05:16 PM
दो राजधानियों वाला पांचवा राज्य बना उत्तराखंड, गैरसैंण बनी स्थायी राजधानी

देहरादून: उत्तराखंड में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बजट पेश किए जाने के दौरान बुधवार को चमोली जिले के गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किए जाने का ऐलान कर दिया है. कहा जा रहा है कि इस ऐतिहासिक ऐलान से पहले उनके मंत्रिमंडल के कई सहयोगियों को भी इसके बारे में जानकारी नहीं थी.

अलग राज्य के रूप में अस्तित्व में आने के बाद स्थायी राजधानी को लेकर उत्तराखंड में बीते 20 वर्षों से बात कही जा रही है, किन्तु आज तक स्थायी राजधानी नहीं मिल पाई थी. देहरादून राज्य की राजधानी है, किन्तु वह अभी भी अस्थायी राजधानी के तौर पर ही है. गैरसैंण को राजधानी घोषित किए जाने की मांग नई नहीं है. प्रदेश आंदोलन के दौरान भी गैरसैंण को ही राजधानी बनाने की मांग थी. उल्लेखनीय है कि उत्तराखंड में प्रशासकीय रूप में दो मंडल हैं, कुमाऊं और गढ़वाल. 

प्रदेश के गठन के बाद गढ़वाल और राज्य की बॉर्डर पर स्थित देहरादून को राजधानी घोषित किया गया तो कुमाऊं के नैनीताल में उच्च न्यायालय बना रहा. इसके साथ ही उत्तराखंड देश के चुनिंदा राज्यों में शामिल है, जहां गवर्नर के लिए दो राजभवन हैं- देहरादून और नैनीताल में. ग्रीष्मकाल में राज्यपाल यहां प्रवास पर आते हैं. अब उत्तराखंड देश का ऐसा पांचवां सूबा बन गया है जिसकी 2-2 राजधानियां हैं. 

बैंकों का समूह येस बैंक में खरीदेगा नियंत्रक हिस्सेदारी

ताहिर हुसैन की अग्रिम जमानत याचिका खारिज, नहीं मिला कोई भी वकील

Woman's Day पर 104 साल की महिला को राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित