फुल कूल मून 38 साल में पहली बार

वाशिंगटन: 38 साल में पहली बार इस क्रिसमस को पूर्णिमा पर सही मायनो में पूर्ण चन्द्र दिखाई देगा. क्रिसमस पर पिछले समय पर यह खगोलीय घटना 1977 में हुई थी कि पूर्णिमा और पूर्ण चन्द्र ग्रहण एक साथ हो. इस बार की यह अनोखी खगोलीय घटना को आप देखने से चुकते है तो अगली बार 2034 में 19 साल के इंतज़ार के बाद ही यह खगोलीय घटना होगी.  

वैज्ञानिको ने इसे 'पूर्ण ठंडा चाँद' (फुल कूल मून) का नाम दिया है. पूर्णिमा वैसे तो एक महीने में एक बार तो होती ही है, पर क्रिसमस के दिन पूर्णिमा एक दुर्लभ घटना ही है. इस घटना के दुर्लभ होने का एक यह भी कारण है कि पृथवी और चन्द्र अपनी ही ध्रुव पर झुके हुए है.    

हमारे चंद्रमा की उत्पत्ति की व्याख्या करने के लिए सिद्धांतों की एक लम्बी लिस्ट है. एक सिद्धांत के अनुसार उल्का पिंडो के पृथवी से टकराने के बाद अंतरिक्ष में उडी धूल के इकट्ठा होने से चन्द्रमा बना है. यही चन्द्र फिर पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण में आकर पृथ्वी की परिक्रमा करने लगा और आज तक कर रहा है.   

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -