नहाय-खाए संग चैती छठ महापर्व हुआ आज से प्रारम्भ

Apr 09 2019 09:20 AM
नहाय-खाए संग चैती छठ महापर्व हुआ आज से प्रारम्भ

आप सभी को बता दें कि आज पूरे प्रदेश में चैती छठ महापर्व का चार दिवसीय अनुष्ठान मंगलवार यानी आज से शुरू होगा. ऐसे में व्रती नहाय-खाए से अनुष्ठान का संकल्प लेंगे और गंगा घाटों पर गंगा स्नान के बाद लौकी की सब्जी व अरवा चावल ग्रहण किया जाएगा. आप सभी को बता दें कि घाटों पर प्रसाद के लिए गेहूं धोए और सुखाए जाएंगे और खरना और अर्घ्य के प्रसाद के लिए श्रद्धालु टिन और डिब्बों में गंगाजल भी भरेंगे. इसी के साथ भगवान भास्कर को सायंकालीन अर्घ्य 11 अप्रैल और 12 अप्रैल को उदयीमान सूर्य को अर्घ्य के साथ अनुष्ठान संपन्न होगा और बिहार में चैत्र मास में भी छठ पूरी आस्था, निष्ठा व धूमधाम से मनायी जाती है.

आरोग्यता, संतान एव मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए सूर्योपासना - ज्योतिषों के अनुसार सूर्य उपासना के इस पर्व में आरोग्यता, संतान एवं मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए भगवान भास्कर की उपासना व्रती करेंगे और छठ महापर्व खासकर शरीर, मन और आत्मा की शुद्धि का पर्व है. कहा जाता है और वैदिक मान्यता है कि नहाए-खाए से सप्तमी के पारण तक उन भक्तों पर षष्ठी माता की कृपा बरसती है, जो श्रद्धापूर्वक व्रत करते हैं.

आइए जानिए इस महीने के चैती छठ महापर्व
नहाय-खाए- 9 अप्रैल
खरना-लोहंडा-10 अप्रैल
सायंकालीन अर्घ्य-11 अप्रैल
प्रात:कालीन अर्घ्य-12 अप्रैल 

राम नवमी पर अपनी समस्याओं के लिए जरूर पढ़े रामचरितमानस की यह चौपाई

आपके सभी पापों का अंत कर देंगे दुर्गा सप्तशती के 13 अध्यायों के 13 मंत्र और 13 आहुतियां

आज ऐसे करने शिव-पार्वती की पूजा