पंचायत चुनाव रद्द होते ही उमा भारती ने किये 12 ट्वीट, जानिए क्या-क्या कहा?

भोपाल: शिवराज सरकार द्वारा मध्यप्रदेश पंचायत चुनाव को रद्द करने का फैसला लिया है और इन सभी के बीच मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेत्री उमा भारती का बड़ा बयान सामने आया है। जी दरअसल भाजपा नेत्री उमा भारती ने मध्यप्रदेश पंचायत चुनाव रद्द करने के फैसले का स्वागत किया है और इसी के साथ उन्होंने कई ट्वीट किए है। उनका कहना है कि मध्य प्रदेश के पंचायत चुनावों में पिछडे वर्गों के आरक्षण की दुविधा को देखकर कुछ समय के लिए मध्यप्रदेश सरकार ने यह पंचायत चुनाव निरस्त किए हैं, इसके लिए मुख्यमंत्री जी एवं सरकार का अभिनंदन।

आप सभी को बात दें कि कल एमपी के मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई बैठक में मध्य प्रदेश कैबिनेट ने पंचायत चुनाव अधिनियम के तहत पिछले महीने जारी अध्यादेश को निरस्त कर दिया, साथ ही संबंधित प्रस्ताव को मंजूरी के लिए राज्यपाल के पास भेजे जाने को मंजूरी दी। वैन राज्यपाल द्वारा इस प्रस्ताव पर मुहर लग जाने के बाद सरकार मध्य प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग इन चुनावों को निरस्तीकरण के लिए निर्देश दी सकती है। जिससे ये चुनाव टल जाएंगे। ऐसे में आज उमा भारती (Uma Bharti) के कई ट्वीट सामने आये हैं। जी दरअसल आज ही उमा भारती ने 12 ट्वीट किये हैं। इनमे उन्होंने पिछड़े वर्ग, हिंदुत्व, भाजपा और राष्ट्र को जोड़कर बात की है।

आप देख सकते हैं उमा भारती ने लिखा- 'जब मैंने कुछ दिनों पहले अपने बयान में यह सुझाव दिया था तब सोशल मीडिया पर कुछ टिप्पणियों से ऐसा लगा कि मैं एक हिंदुत्ववादी राष्ट्रवादी नेता हूं तो मैं पिछड़ा वर्ग की बात क्यों करती हूं। इसलिए मेरा इस पक्ष पर प्रकाश डालना जरूरी है। मैं 6 साल की उम्र से हिंदू संस्कृति का प्रचार करने लगी तथा 20 साल की उम्र आते-आते भारत के अलावा दुनिया के महत्वपूर्ण 60 देशों में भी हिंदू धर्म संस्कृति का प्रचार एवं प्रसार किया फिर भाजपा नेताओं के आग्रह पर मैं राजनीति में तथा बीजेपी में आई।' आगे उमा भारती ने लिखा है, 'भाजपा की दो महत्वपूर्ण चिंतन बैठकें हुई एक विरार(महाराष्ट्र) की दूसरी सरिस्का (राजस्थान) की हुई जिनमें मैं भी शामिल थी। चिंतन का निचोड़ यह था कि भाजपा एक राष्ट्रवादी पार्टी होते हुए भी पिछड़े वर्गों एवं दलित वर्गों के लोग भाजपा को बहुत कम वोट देते हैं। जबकि देश में इनकी संख्या 70% से ज्यादा है इन्हीं दो बैठकों में यह निर्णय हुआ कि हमारे देश को मजबूत बनाने के लिए भाजपा को मजबूत बनाना जरूरी है और फिर हिंदू, हिंदुस्तान और भाजपा को मजबूत करने के लिए सभी वर्गों को साथ लेने की जिम्मेवारी हम सब नेताओं को सौंपी गई।'

इसी के साथ उन्होंने लिखा है- 'पिछड़े वर्ग एवं दलित वर्ग पुरातन काल से निष्ठावान राम भक्त हिंदू रहे हैं किंतु कमी यह थी कि उनके भाजपा से आत्मीय संबंध नहीं थे जो हमसे शुरू हुए और मोदी जी पर जाकर इसकी पूर्ण आहुति हुई। फिर तो मेरा पिछड़े वर्ग का होना, लोधी समाज का होना भाजपा की एक अतिरिक्त ताकत बन गया एवं पिछड़े वर्ग भाजपा से जुड़ते गए भाजपा शक्तिशाली होती गई एवं उसी शक्ति की धारा का एक महासागर बन जाना मोदी का प्रधानमंत्री बन जाना था। अब भाजपा को कोई कमजोर नहीं कर सकता क्योंकि पूरी दुनिया के सामने यह बात स्पष्ट हो गई है कि मोदी जी भी पिछड़े वर्ग के हैं इसीलिए अब तो सभी पिछड़े एवं दलित वर्ग भाजपामय हो गए हैं।'

आगे वह लिखती हैं, 'मेरी राजनीति की यात्रा और भाजपा की जीवन यात्रा साथ ही शुरू हुईं और मेरे साथ पिछड़े वर्ग तथा लोधी समाज के लोग भाजपा से मजबूती से जुड़े। हिंदुत्व को, हिंदुस्तान को तथा भाजपा को शक्तिशाली बनाए रखने के लिए इन वर्गों के हितों की बात खुलेआम बोलनी पड़ेगी इसलिए मैं पिछड़े वर्गों की बात बोलना अपना राष्ट्रीय कर्तव्य मानती हूं। यह मैं हमेशा करूंगी यदि मैंने पिछड़ों के हित में बोलना छोड़ दिया तो इस देश को, भाजपा को तथा हिंदुत्व को भारी नुकसान होगा। इसलिए मैं पिछड़े वर्गों के हितों पर हमेशा बोलूंगी ताकि हिंदुत्व हिंदुस्तान एवं भाजपा मजबूत रहें।'

असम के लखीमपुर में ट्रक-स्कूटर की टक्कर में एक की मौत

क्रिसमस के दौरान केरल के लोगो ने 150 करोड़ रुपये की शराब खरीदी

गुवाहाटी में आठवीं कक्षा की छात्रा की आत्महत्या के प्रयास से मौत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -