इंदिरा गांधी को धोखे में रखकर किया गया था आॅपरेशन ब्लू स्टार
इंदिरा गांधी को धोखे में रखकर किया गया था आॅपरेशन ब्लू स्टार
Share:

दिल्ली : भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी के दौर में किए गए आॅपरेशन ब्लू स्टार को लेकर आज भी जब इसकी यादें ताज़ा हो जाती हैं तो हर कोई दर्द से सिहर उठता है। आज भी इसके बारे में विचार किया जाता है और कहा जाता है कि आखिर आॅपरेशन ब्लू स्टार से जुड़ी कुछ अन्य बातें हैं जिनपर विचार किया जा रहा है। मामले में कहा जा रहा है कि आॅपरेशन ब्लू स्टार तत्कालीन प्रधानमंत्री को धोखे में रखकर किया गया। यही नहीं प्रधानमंत्री कार्यालय के अधिकारियों द्वारा यह भी कहा गया कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को जिस तरह की जानकारी दी गई वह काफी अलग थी। मामले में तत्काली सेनाअध्यक्ष जनरल अरूण कुमार वैद्य ने भूतपूर्व प्रधानमंत्री इंदिरागांधी से कहा था कि स्वर्ण मंदिर में कोई नुकसान नहीं होने दिया जाएगा और न ही कोई हताहत होगा। 

दूसरी ओर 6 जून वर्ष 1984 को पूर्वकेंद्रीय मंत्री आरके धवन ने तत्कालीन रक्षा राज्यमंत्री केपी सिंह देव से चर्चा की। इस दौरान उन्हें इस आॅपरेशन के पूरे होने की बात बताई गई। जब उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को इसकी जानकारी दी तो उन्होंने दुख व्यक्त करते हुए यही कहा कि इन लोगों ने मुझे पहले बताया ही नहीं यह तो बहुत बुरा हुआ। 

दूसरी ओर यह बात कही जाती है कि वर्ष 1984 प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के निवास को लेकर अधिकारी उनसे मिलने पहुंचे। दूसरी ओर 1984 के अप्रैल माह में एयरफोर्स की छोटी सी टुकड़ी स्पेशल फ्रंटियर फोर्स और दो गुप्त अर्धसैनिक यूनिट, स्पेशल सर्विसेज ब्यूरो भी उनके अधीन थे। उनके समीप पूर्वोत्तर राज्यों में आतंकवाद से निपटने के लिए अच्छा अनुभव रहा। अधिकारियों के नेतृत्व में दिल्ली के समीप दो माह से गुप्त ठिकाने पर कमांडोज़ को ट्रेनिंग भी दी जा रही थी। 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -