पूर्व नौसेना प्रमुख ने चुनाव आयोग को लिखा पत्र, कहा सैन्य कार्यवाही का ना लिया जाए सियासी लाभ

नई दिल्ली: सुरक्षा बलों की कार्रवाई से वोटरों को प्रभावित करने की राजनीतिक दलों के प्रयास पर चुनाव आयोग से रोक लगाने की मांग की गई है। पूर्व नौसेना प्रमुख एडमिरल एल रामदास ने इस मामले में निर्वाचन आयोग से अविलंब कदम उठाने का आग्रह किया है। पूर्व नौसेना प्रमुख ने कहा है कि पुलवामा में आतंकी हमले के बाद बालाकोट में एयर फ़ोर्स की कार्रवाई और विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान के पाकिस्तानी एफ-16 विमान को मार गिराने पर जिस तरह की चर्चाएं चल रही हैं, वे अनुचित हैं।

क्या भाजपा में शामिल होंगे अल्पेश ठाकोर, आज होगा ऐलान

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को लिखे गए इस पत्र में एडमिरल रामदास ने सैन्य कार्रवाइयों को सियासी लाभ के लिए इस्तेमाल करने पर चिंता जताई है। उन्होंने लिखा है कि कुछ ही हफ्तों के बाद देश में लोकसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि कोई भी राजनीतिक पार्टी इन सैन्य कार्रवाइयों को वोटरों को प्रभावित करने में इस्तेमाल न कर पाए। दो पन्ने के पत्र में पूर्व नौसेना प्रमुख ने लिखा है कि अपनी संरचना, कार्य कुशलता और निष्पक्षता के चलते इंडियन आर्मी हमेशा से अराजनीतिक और धर्मनिरपेक्ष रही हैं। इसके लिए उन्हें फख्र है, किन्तु एक जिम्मेदार नागरिक होने और भारतीय सेना का हिस्सा रहे होने की वजह से  मौजूदा हालात से उन्हें गहरी चिंता हो रही है।

नितिन गडकरी करने वाले थे पुल का उद्घाटन, उससे पहले ही 'दीदी' के मंत्री ने काट दिया फीता

कुछ राजनीतिक दल जनता के बीच जिस प्रकार से अपने लाभ के लिए सैन्य कार्रवाई, शहादत और व्यक्तियों का उपयोग कर रहे हैं, वह चिंता योग्य है। मीडिया, जनसभाओं और जनता के मध्य राजनीतिक दलों की चर्चा का प्रभाव दिखाई दे रहा है। यह सब अस्वीकार्य है। इससे सैन्य बलों के मूल्यों को नुकसान उठाना होगा। यह संविधान की भावना के विरुद्ध है। आने वाले वक़्त में इसके गंभीर दुष्परिणाम भी सामने आ सकते हैं।

खबरें और भी:-

मायावती ने किया भाजपा पर हमला, कहा यही रह गया था बाकी

वामपंथी दलों की बैठक आज कोलकाता में, गठबंधन को लेकर भी होगी चर्चा

लोकसभा चुनावों की तैयारियों को लेकर आज हो सकती है बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -