चालीस हज़ार की रिश्वत लेते वनरक्षक पकड़ाया

चित्तौड़गढ़. एक ओर सबका सपना है कि देश विकास करे, वहीं दूसरी ओर भ्रष्टाचारियों ने अपने लालच की जंजीरों से देश को जकड रखा है. इन भ्रष्टाचारियों के कारण आम आदमी शोषित होता चला जा रहा है. देशभर में रोज़ाना कहीं न कहीं भ्रष्टाचारी अपना खेल खेलते रहते हैं. हालिया घटना में राजस्थान के चित्तौडग़ढ़ जिले के बेंगू में, एसीबी ने कार्रवाई करते हुए वनरक्षक को चालीस हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया.

एसीबी की भीलवाड़ा चौकी के प्रभारी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश गुप्ता ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि “बेंगू वन क्षेत्र के ग्राम बड़ी का खेड़ा की वनरक्षा समिति के माध्यम से गांव में जल स्वावलम्बन के कार्य किए गए थे. जिसके बिल की भुगतान राशि का एक लाख 38 हजार रुपए का चैक तैयार था, लेकिन वनरक्षक सुनील सैनी जिसके पास लिपिक कार्य भी है, चैक देने के बदले 29.50 प्रतिशत के हिसाब से करीब चालीस हजार की रिश्वत मांग रहा था.”

उन्होंने आगे बताया “इस मामले में समिति के नंदा भील एवं रघुनाथ मीणा ने ब्यूरो में शिकायत दर्ज करवाई. सत्यापन के बाद ब्यूरो के दल ने कार्यालय में रिश्वत राशि लेते वनरक्षक को दबोच लिया.” रिश्वतकाण्ड के इस मामले में ब्यूरो, वन विभाग के अधिकारियों की भूमिका की भी जांच कर रहा है.

बच्चों के सामने माँ को चाकुओं से गोदा

रेस के चक्कर में कार टैंकर से टकराई, कार सवारों की मौत

दुष्कर्मी देवर ने किया भाभी का बलात्कार

Most Popular

- Sponsored Advert -