वन विकास निगम कर्मियों ने शुरू किया आंदोलन, थाली बजाकर कर रहे प्रदर्शन

Oct 24 2020 11:57 AM
वन विकास निगम कर्मियों ने शुरू किया आंदोलन, थाली बजाकर कर रहे प्रदर्शन

देहरादून: उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में वन विकास निगम के विरुद्ध कार्मिकों का आंदोलन अब भी चल रहा है। उनका इलज़ाम है कि ऑडिट आपत्तियों के निस्तारण के नाम पर उत्पीड़न का शिकार भी हो रहे है। कार्मिकों ने मीडिया के माध्यम से सरकार तक अपनी बात पहुंचाने का प्रयास किया। उन्होंने प्रेस क्लब के बाहर थाली बजाकर वन निगम प्रबंधन के विरुद्ध नारेबाजी की। आंदोलन की शुरुआत बृहस्पतिवार को वन मंत्री के आवास के बाहर ढोल और थाली बजाकर की गई थी। 

मिली जानकारी के अनुसार वन विकास निगम कार्मिक संयुक्त मंच के बैनर तले पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत शुक्रवार को बड़ी तादाद में कार्मिक लैंसडौन चौक पर आ चुके है। यहां उन्होंने ढोल और थाली बजाकर निगम प्रबंधन के विरुद्ध नारेबाजी शुरू कर दी। प्रदेश सरकार को संबोधित ज्ञापन में कार्मिकों ने बोला कि गत वर्षों से ऑडिट आपत्तियों के नाम पर उनका उत्पीड़न अब भी चल रहा है, जबकि ऑपत्तियों का निस्तारण कंप्लाइंस रिपोर्ट भेजने के उपरांत किया जाना था। जंहा इस बात का पता चला है कि इस केस में उच्च न्यायालय के स्थगन आदेश का पालन भी नहीं किया जाता है। ऑडिट आपत्तियों के निस्तारण को लेकर न्यायालय को भ्रमित करने के लिए झूठे शपथ पत्र भी जारी कर दिए गए थे। दूसरी ओर वन विकास निगम प्रबंधन की ओर से ऑडिट में भ्रष्टाचार के तहत खरीदारी, 6 महीने में एक भी अधिकारी को पदोन्नति नहीं देना, करोड़ों रुपये की मालहानि को दबाना आदि मामले प्रबंधन की मंशा पर सवाल खड़े करते हैं। 

वन विकास निगम के कार्मिकों ने मीडिया से उनकी मांगें सरकार तक पहुंचाने की गुहार लगा रहे है। वहीं यह भी कहा जा रहा है कि प्रदर्शन में घनश्याम कश्यप, पूरन रावत, दिगपाल बड़थ्वाल, दिवाकर शाही, ब्रह्मदेव यादव, राजेंद्र पंवार, राजेंद्र भट्ट, स्वराज राणा, प्रेम सिह पंवार, हरीश ध्यानी, गजेंद्र्र राणा आदि शामिल रहे।

भारत की ताकत देख घबराया पाक, इमरान खान ने सरेआम स्वीकार की ये बात

जानिए क्यों भैरव के बिना अधूरी है मां दुर्गा की पूजा? कैसे हुआ था इनका जन्म

रामलीला में अंगद बने मनोज तिवारी, बोले- जिसने रामायण समझ ली वह भाजपा ही ज्वाइन करेगा