पहली बार भारत-मध्य एशिया वार्ता में पहुंची भारतीय विदेश मंत्री

Jan 14 2019 11:02 AM
पहली बार भारत-मध्य एशिया वार्ता में पहुंची भारतीय विदेश मंत्री

समरकंद : भारत-मध्य एशिया वार्ता पर गईं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को सभा के समक्ष भारत का पक्ष रखा. उन्होंने इस दौरान कहा, 'भारत ने भारत और मध्य एशियाई देशों के बीच इस विकास की साझेदारी को आगे बढ़ाने के लिए 'भारत-मध्य एशिया विकास समूह' की स्थापना का प्रस्ताव रखा है. हमारे सभी देशों को इस G2G समूह में प्रतिनिधित्व दिया जाएगा. इस समूह से ठोस प्रस्तावों के साथ आने का अनुरोध किया जाएगा.

हिना रब्बानी खार का बड़ा बयान, दोनों हाथों में भिक्षा पात्र रख सम्मान नहीं पा सकता पाकिस्तान

चाबहार दिवस पर भी बोली 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उन्होंने इस सभा में चाबहार दिवस का भी जिक्र किया. उन्होंने बताया, 'भारत, ईरान और अफगानिस्तान के संयुक्त प्रयासों से ईरान में चाबहार पोर्ट का विकास हुआ. जो अफगानिस्तान और संभवतः मध्य ऐशिया से जोड़ने वाला मार्ग है. हमें 26 फरवरी को चाबहार दिवस अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में चाबहार दिवस पर मध्य एशियाई देशों की भागीदारी को देखकर खुशी होगी.

रात के अंधेरे में आतंकियों ने पुलिस स्टेशन पर किया हमला, 6 लोगों को उतारा मौत के घाट

प्राप्त जानकारी अनुसार सुषमा स्वराज ने कहा, 'अफगानिस्तान के साथ समरकंद  में इस सभा में मौजूद हो कर मुझे काफी खुशी हो रही है. मैं भाग लेने के लिए इस वार्ता में शामिल होने वाले मध्य एशिया और अफगानिस्तान के विदेश मंत्रियों की और मेजबानी के लिए उज्बेकिस्तान सरकार की आभारी हूं.

उज्बेकिस्तान पहुंची सुषमा स्वराज, प्रथम भारत-मध्य एशिया वार्ता में होंगी शामिल

समंदर किनारे मिली प्रथम विश्व युद्ध के दौरान डूबी हुई पनडुब्बी, वायरल हुई तस्वीरें

मेघालय के बाद एक और भीषण खदान हादसा, छत ढहने से 21 मजदूरों की मौत