तंजानियाई युवती की पिटाई का किया लोगों ने विरोध, बेंगलुरू पहुंचा जांच दल

Feb 05 2016 12:09 PM
तंजानियाई युवती की पिटाई का किया लोगों ने विरोध, बेंगलुरू पहुंचा जांच दल

बेंगलुरू : बेंगलुरू में तंजानिया की छात्रा से दुव्र्यवहार की बात सामने आई है। विदेश मंत्रालय का जांच दल इस मामले में बेंगलुरू पहुंच रहा है। हालांकि इस मामले में विदेशमंत्री सुषमा स्वराज, कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया सहित राजनीतिक दलों ने घटना की तीखी आलोचना की है। तंजानिया के दूतावास द्वारा इस मामले में विरोध दर्ज किया गया है। दोषियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग की गई है। कर्नाटक सरकार द्वारा दोषियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की बात कही गई है। जो दल जांच करने के लिए बेंगलुरू पहुंच रहा है उसमें तंजानिया के हाईकमिश्नर भी शामिल हैं। तंजानिया के दूतावास द्वारा विरोध दर्ज करवाया गया है। 

दूतावास द्वारा दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की गई है। कर्नाटक सरकार द्वारा दोषियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई किए जाने का आश्वासन दिया है। विदेशी छात्रा की कार के नीचे आ जाने से महिला की मौत को लेकर कुछ लोग आक्रोशित हो गए। हालांकि यह कार दुर्घटना तंजानिया की युवती  की कार से नहीं हुई थी। मगर 35 वर्षीय महिला की मौत के बाद मान लिया गया कि इस युवती की मृत्यु तंजानियाई युवती की कार से हुई है।

जिसके कारण इस युवती को पीटा गया और निर्वस्त्र कर दिया गया। इसके बाद छात्रा वहां से जान बचाकर भाग निकली। मगर युवती की पिटाई के बाद लोगों में आक्रोश आ गया। उन्होंने इस घटना का विरोध किया। इस मामले में सरकार और तंजानियाई दूतावास का कहना है कि घटना वैसी नहीं है जैसी दिखाई जा रही है। विरोध करने वालों ने पोस्टर थामकर प्रदर्शन किया। इस दौरान सैकड़ों युवा बेंगलुरू की सडकों पर एकत्रित हुए और उन्होंने अपना प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में उन्होंने नारेबाजी भी की।