'मेक इन इंडिया' को मिल रहा विदेशी निवेश का साथ

नई दिल्ली : केंद्र की राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार द्वारा एक ओर जहां मेक इन इंडिया कैंपेन प्रारंभ किया गया है वहीं दूसरी ओर इसमें प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की बात कही गई है। वर्ष 2014 से 2015 के दौरान इसका वार्षिक आधार 48 प्रतिशत रहा। मिली जानकारी के अनुसार उद्योग मंडल द्वारा PHDCCI के सेमिनार में औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग में संयुक्त सचिव द्वारा जानकारी दी गई। इस दौरान कहा गया कि सालाना आधार में 47 से 48 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इसे मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट के तहत एक बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है।

सरकार के पक्ष द्वारा यह जानकारी भी दी गई कि मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट को सितंबर में प्रारंभ किया गया। तो दूसरी ओर एफडीआई को इस योजना में लाया जा रहा है। इससे बड़ा लाभ होगा। मामले में डीआईपीपी के तहत आॅक्टोबर 2014 से अप्रैल 2015 के तहत देश को 19.84 अरब डाॅलर का विदेशी निवेश मिला।

यह निवेश बीते वर्ष से कहीं ज्यादा रहा। बीते वर्ष यही निवेश 13.4 अरब डाॅलर रहा। मामले को लेकर चतुर्वेदी द्वारा कहा गया है कि विदेशी निवेश के माध्यम से सरकार मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट को गति देने जा रही है। इस दौरान वर्ष 2014 से 2015 में विदेशी निवेशकों का निवेश शेयर बाजार में 1.11 लाख करोड़ रूपए तक का निवेश दर्ज किया गया।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -