बिहार: पुलिस ने छापामार कार्यवाही कर किया सेक्स रैकेट का पर्दाफाश

Sep 12 2015 04:19 PM
बिहार: पुलिस ने छापामार कार्यवाही कर किया सेक्स रैकेट का पर्दाफाश

पटना. बिहार की राजधानी पटना से खबर आ रही है की वहां पर शुक्रवार को पुलिस ने एक फ्लेट में छापा मारकर सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस ने यह छापा पुलिस के वाट‌्सएप नंबर पर मिली सुचना के आधार डाला है. पटना स्थित शब्बो कॉम्प्लेक्स के फ्लैट नंबर-602 में पुलिस ने यह कार्यवाही को अंजाम दिया. मौके पर से पुलिस ने चार लड़कियों को इससे मुक्त कराया. व तीन युवको को हिरासत में लिया है. जिनके नाम रवि कुमार, मो. सरफराज रकीब खान व शंभू कुमार है तथा इसमें रवि कुमार इस रैकेट का सरगना है. इस दौरान पुलिस ने फ्लैट के दो कमरो से ब्लू फिल्मों की 20 सीडी, शराब की बोतलें, सिगरेट, 50 पैकेट कंडोम और 43,500 रुपए मिले। अरविंद नामक व्यक्ति का यह फ्लैट है। इसे रवि ने अंजू रंजन नामक महिला के जरिए लिया था व पुलिस अंजू की भी तलाश कर रही है. जब महिला पुलिस अधिकारी ने असम की 16 साल की लड़की से इस दलदल में फंसने की वजह पूछी तो उनसे रोंगटे खड़े कर देने वाली कहानी बयां की उसने बताया की मेरे जीजा ने मुझे एक दलाल को बेच दिया था व उसने मेरे माँ बाप को कहा था की लड़की काम पर जा रही है. लड़की ने बताया की रविवार वाला दिन बढ़ा ही खौफनाक होता था जब हमे 20 से अधिक ग्राहकों के साथ रिश्ते बनाने होते थे.

तथा उस दौरान अगर हम रोए तो हमे सरगना बड़ी ही बेरहमी से मारता व पीटता तथा इसके लिए हमारा एक समय का खाना भी रोक दिया जाता था. व यह लोग इन आने वाले ग्राहकों से दो हजार रूपये तक वसूलते थे. व लड़कियों को फूटी कोड़ी भी नही देते थे.  चारों लड़कियों ने कहा कि उन्हें नौ महीने से फ्लैट में कैद कर रखा गया था. व छूडाई गई चारो लड़कियां बिहार छपरा जिले के नागरा गांव की एक लड़की, पश्चिम बंगाल के चौबीस परगना जिले की एक महिला, असम की औरधर कॉलोनी व बांग्लादेश के जसर जिले की एक-एक लड़की शामिल हैं. पुलिस ने आरोपियों पर मामला दर्ज कर अन्य आरोपियों की गहनता से खोजबीन शुरू कर दी है. पुलिस को दिए अपने बयान में इन छुड़ाई गई लड़कियों ने कहा की हमारी गरीबी व बेरोजगारी के कारण रवि व संजय हमे नौकरी दिलवाने के बहाने यहां लेकर आए व हमे इस गंदे काम में धकेल दिया.