गुरु नानक देव जी के पांच मुख्य उपदेश, जो जीवन भर आपको देते रहेंगे प्रेरणा...

Apr 15 2019 08:54 AM
गुरु नानक देव जी के पांच मुख्य उपदेश, जो जीवन भर आपको देते रहेंगे प्रेरणा...

अमृतसर: गुरुनानक देव सिखों के प्रथम गुरु थे, इनके अनुयायी इन्हें नानक, नानक देव जी, बाबा नानक और नानकशाह आदि नामों से संबोधित करते हैं। सामवेदी ब्राह्मण गुरु नानक ने मुसलमानों के अत्याचार के खिलाफ सिक्खों को तैयार किया था। नानक अपने व्यक्तित्व में दार्शनिक, योगी, गृहस्थ, धर्मसुधारक, समाजसुधारक, कवि, देशभक्त और विश्वबंधु जैसे कई गुण समेटे हुए थे। कई लोगों का ये भी मानना है कि गुरु नानक एक वेद पाठी ब्राह्मण थे। आइए आज उनकी जयंती पर आपको उनके पांच मुख्य उपदेशो के बारे में बताते हैं, जो आपको प्रेरणा देते रहेंगे।
 
1. गुरु नानक देव ने इक ओंकार का मंत्र दिया, जिसका मतलब है कि ईश्वर एक है। वह सभी जगह उपस्थित है। हम सबका “पिता” वही है इसलिए हमें सबके साथ प्रेमपूर्वक रहना चाहिए।


2. हर तरह के लोभ और लालच को त्याग कर अपने हाथों से मेहनत कर और न्यायोचित तरीकों से धन अर्जित करना चाहिए।

3. कभी भी किसी का हक नहीं छीनना चाहिए बल्कि कड़ी मेहनत और ईमानदारी की कमाई में से जरूरतमंदों की भी सहायता करनी चाहिए।

4. तनाव मुक्त रहकर लगातार अपने कर्म को करते रहना चाहिए तथा सदैव खुश भी रहना चाहिए।

5.  मनुष्य का सबसे बड़ा दुश्मन अहंकार है। इसलिए कभी भी अहंकार नहीं करना चाहिए बल्कि विनम्र होकर सेवाभाव से जीवन व्यतीत करना चाहिए।

खबरें और भी:-

एक समय इनकी स्विंग गेंदबाजी से खौफ खाते थे बल्लेबाज

कभी खुद से 6 साल बड़े एक्टर से रहे थे अनीता हसनंदानी के संबंध, किया था चीट

B'Day : अपना 44वां जन्मदिन मना रही हैं राजेश्वरी